कांग्रेस को लगेगा झटका, प्रदेश महासचिव ऊर्जा मंत्री के साथ भोपाल रवाना, भाजपा जॉइन करेंगे!

अशोक शर्मा भी ग्वालियर विधानसभा से टिकट की दावेदारी कर रहे थे लेकिन प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने वरिष्ठ नेता को दरकिनार करते हुए सुनील शर्मा को प्रत्याशी बना दिया, जिसे अशोक शर्मा अपना अपमान मान रहे हैं।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। उपचुनाव की तारीख के एलान के साथ ही ग्वालियर चंबल संभाग में एक बार दल बदल की गतिविधि तेज हो गई है। ताजा घटनाक्रम ग्वालियर का है जहाँ से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता,पूर्व जिला अध्यक्ष एवं प्रदेश महासचिव अशोक शर्मा पार्टी छोड़ सकते हैं बताया जा रहा है कि वे ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और भाजपा के प्रदेश पदाधिकारी के साथ भोपाल रवाना हो गए हैं। सूत्र बताते हैं कि दिन में वे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने भाजपा की सदस्यता लेंगे।

ग्वालियर जिले की जिन तीन सीटों पर उपचुनाव होना है उसमें से एक ग्वालियर विधानसभा है जहाँ से भाजपा की तरफ से ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर उम्मीदवार होंगे। वहीं कांग्रेस ने युवा नेता प्रदेश सचिव सुनील शर्मा को प्रत्याशी बनाया है। चूंकि अशोक शर्मा भी ग्वालियर विधानसभा से टिकट की दावेदारी कर रहे थे लेकिन प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने वरिष्ठ नेता को दरकिनार करते हुए सुनील शर्मा को प्रत्याशी बना दिया, जिसे अशोक शर्मा अपना अपमान मान रहे हैं। गौरतलब है कि सुनील शर्मा को टिकट दिलाने में प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष राम निवास रावत, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति की बड़ी भूमिका है।

वीडी शर्मा के घर बनी भूमिका!

बताया जा रहा है कि कांग्रेस द्वारा सुनील शर्मा को टिकट दिये आने के बाद से अशोक शर्मा नाराज हैं और उन्होंने पार्टी छोड़ने का मन बना लिया और इसको बल मिला प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के घर पर। बताया जा रहा है कि ग्वालियर विधानसभा में ही रहने वाले वाले भाजपा के प्रदेश पदाधिकारी वेद प्रकाश शर्मा के साथ अशोक शर्मा वीडी शर्मा के गाँव उनके पिता को श्रद्धासुमन अर्पित करने गए थे तभी उन्होंने अपने मन की बात उन्हें बताई जिसके बाद अशोक शर्मा के भाजपा में आने का रास्ता साफ हो गया। जानकारी के अनुसार आज बुधवार को तड़के अशोक शर्मा को लेकर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और वेद प्रकाश शर्मा भोपाल रवाना हो गए। दिन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ मुलाकात का वक्त हुआ है। वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया भी करीब तीन बजे मुख्यमंत्री से मिलने भोपाल पहुँच रहे हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि अशोक शर्मा इन दोनों नेताओं के सामने भाजपा की सदस्यता लेंगे।