मेरी बाई नहीं आई..चोर निकली खाना बनाने वाली महिला

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर की पुलिस ने दस लाख रूपये नगदी चोरी के मामले का पर्दाफाश करने में सफलता प्राप्त की है। दरअसल यह रुपए उस महिला के द्वारा ही चुराए गए थे जो फरियादी के घर पर खाना बनाने आती थी, लेकिन लंबे समय से गायब हो गई थी।

बाढ़ में बही भैंस मिली तो सरपंच ने मांगी फिरौती, भिंड एसपी ना होते तो चली जाती किसान की भैंस पानी में!

17 अगस्त को अंजनी सुत अपार्टमेंट, पटेल नगर सिटी सेंटर के रहने वाले एक व्यक्ति ने पुलिस थाने में आकर शिकायत की थी कि वह अपने दो दोस्तों के साथ अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 201 में किराए से रहता है। उसका यह भी कहना था कि उसने अपनी शादी के लिए दस लाख रूपये एक कॉटन के थैले में रखकर अलमारी में लॉक लगा कर रख दिए थे। लेकिन रूपये अब अलमारी में नहीं है। उन्हें किसी अज्ञात चोर द्वारा चोरी कर लिया गया है।

इस मामले में थाना विश्वविद्यालय पुलिस ने चोरी का प्रकरण पंजीबद्ध कर चोर की तलाश शुरू की। टीआई आनंद कुमार वाजपेयी ने जब इस पूरे मामले में जांच पड़ताल शुरू की और भौतिक साक्ष्य और साक्षियों के कथनों के आधार पर संदिग्धों से पूछताछ की तो मालूम हुआ कि फरियादी के फ्लैट पर छह महीने से जो महिला खाना बनाने आया करती थी उसका फोन बंद आ रहा है और वह खाना बनाने भी नहीं आ रही है। पुलिस ने जब इस महिला का पता लगाया और उससे पूछताछ की गई तो महिला ने चोरी की घटना को अंजाम देना स्वीकार कर लिया। बाद में महिला के घर से दस लाख रूपये नकद भी बरामद कर लिए गए। पुलिस ने महिला के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है और उससे आगे पूछताछ की जा रही है। पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने एक बार फिर नागरिकों से अपील की है कि वे किसी भी तरह के काम करने वाले को अपना रखने के पहले उसका पुलिस वेरिफिकेशन अवश्य कराएं ताकि इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो।