Corona effect: ग्वालियर सेंट्रल जेल में बना आइसोलेशन वार्ड, कोर्ट की सभी पेशियां बंद

ग्वालियर।अतुल सक्सेना। महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस को लेकर बरते जा रहे एहतियात के तहत ग्वालियर सेंट्रल जेल प्रशासन कड़े कदम उठा रहा है। जेल प्रशासन ने जेल में ही आइसोलेशन वार्ड बनाया है जिसमें नये बंदी को सात दिनों तक रखा जायेगा। इसे अलावा सभी बंदियों की कोर्ट पेशी पर रोक लगा दी गई है। जेल प्रशासन ने बंदियों के लिए जेल में ही मास्क तैयार कराने शुरू दिये हैं । जरूरत पड़ी तो जेल में बन रहे मास्क दूसरे विभागों में भी भेजे जायेंगे।

ग्वालियर सेंट्रल जेल प्रदेश की बड़ी जेलों में से एक है। यहाँ क्षमता से अधिक बंदी है। ग्वालियर सेंट्रल जेल की क्षमता 2625 बंदियों की है लेकिन वर्तमान में यहाँ 3350 बंदी हैं। कोरोना वायरस को लेकर जारी की गई एडवाइजरी के चलते बंदियों की बड़ी संख्या को देखते हुए जेल प्रशासन कड़े कदम उठा रहा है। जेल अधीक्षक मनोज कुमार साहू ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए बताया कि हमने जेल में एक बैरक को आइसोलेशन वार्ड में बदल दिया है। यहाँ नये बंदियों को रखा जायेगा और सात दिनों तक उसका नियमित परीक्षण करने के बाद बैरक में शिफ्ट किया जायेगा। जेल अधीक्षक ने बताया कि न्यायालय के आदेश पर सभी बंदियों की पेशी पर रोक लगा दी गई है। उन्होंने बताया कि हम बंदियों के लिए जेल में ही मास्क तैयार कर रहे हैं और इन्हें बंदियों को और कर्मचारियों को वितरित किया जा रहा है।

एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ ने दिया सुझाव, दूसरे विभागों में भी भेजे जायेंगे मास्क

एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ ने जेल अधीक्षक से सवाल किया कि क्या वे जेल में बन रहे मास्क दूसरे विभागों को भी मुहैया कराएंगे तो इस सुझाव को अच्छा बताते हुए जेल अधीक्षक मनोज कुमार साहू ने कहा कि वे कल ही कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह से मुलाकात करेंगे और यदि आदेश मिलता है तो जेल के लिए मास्क की आपूर्ति हो जाने के बाद दूसरे विभागों की लिए भी बंदियों से मास्क तैयार करवाये जायेंगे और उनकी सप्लाई की जायेगी।