नगर निगम की गौशाला से आई शर्मनाक तस्वीर, बीमार गौवंश की आँख निकालकर खा रहे कौए 

तस्वीर में दिखाई दे रहे गौवंश की हालत देख कर ही समझ आ रहा है कि नगर निगम को इनकी किया परवाह है। इतना ही नहीं गौवंश की आंखों में घाव भी दिखाई दे रहे है। 

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। गौवंश के संवर्धन और संरक्षण के लिए दृढ़ इच्छा शक्ति रखने वाली मध्यप्रदेश सरकार के मुलाजिम कितने लापरवाह और असंवेदनशील है इसकी एक शर्मनाक तस्वीर ग्वालियर में सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। तस्वीर में बीमार गौवंश बेसुध पड़ा है, उसकी आँखों में कौए के घाव हैं, कौए गौवंश की आँख फोड़ रहे हैं।

ग्वालियर नगर निगम की गोला का मंदिर चौराहे के पास बनी गौशाला की एक तस्वीर ऐसी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसने ये बता दिया है कि नगर निगम में बैठे अफसर कितने लापरवाह और असंवेदनशील है।

रूह कंपकंपाने देने वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर डाली है गायों के संरक्षण के लिए लम्बे समय से काम कर रहे शहर के एक पत्रकार आकाश सक्सेना ने। तस्वीर में दिखाई दे रहे गौवंश की हालत देख कर ही समझ आ रहा है कि नगर निगम को इनकी किया परवाह है। इतना ही नहीं गौवंश की आंखों में घाव भी दिखाई दे रहे है।

इस दिल दहला देने वाली तस्वीर की देखने के बाद जब एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ ने आकाश सक्सेना से बात की तो उन्होंने बताया कि वे गोला का मंदिर गौशाला में सेवा की दृष्टि से जाते रहते हैं। वे कई दिनों से देख थे कि गम्भीर रूप से बीमार पड़े गौवंश के लिए यहाँ कोई व्यवस्था नहीं है। उन्हें खुले आसमान के नीचे रखा जा रहा है जहां इनकी हालत का फायदा उठाकर कौए इनकी आँख नोच कर गहरे घाव दे रहे हैं।

आकाश ने बताया कि वे नगर निगम कमिश्नर से लेकर गौशाला प्रभारी तक सबको गौवंश की दयनीय दशा की जानकारी दे चुके हैं। मुझे आश्वासन दिया गया कि एक शेड लगवा दिया जायेगा लेकिन इसे बेशर्मी ही कहा जायेगा कि किसी ने भी इस पर ध्यान नहीं दिया इसीलिए दुखी और भारी मन से उन्होंने ये तस्वीर सोशल मीडिया पर डाली है।

एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ ने जब इस मामले में गोला का मंदिर गौशाला के प्रभारी केशव सिंह चौहान से बात की तो उन्होंने कहा कि गोले का मंदिर गौशाला में बीमार गौवंश को रखने की व्यवस्था नहीं है हम उसे लाल टिपारा गौशाला में भेज देते हैं। रही बात खुले आसमान में रखने की तो जल्दी ही वहाँ शेड की व्यवस्था करवा दी जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here