डबरा, सलिल श्रीवास्तव। डबरा (Dabra) में स्वच्छता टीम एवं नगर परिषद पिछोर के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा स्वच्छता अभियान के तहत किए गए फर्जीवाड़े की मिलीभगत को आम जनता ने उजागर किया।

यह भी पढ़ें…दुकानदार को झांसा देकर 21 हजार की साड़ियां चुराई, पुलिस ने पकड़ा राजस्थान का गिरोह

जानकारी के अनुसार भोपाल से चलकर आई स्वच्छता टीम को नगर पिछोर सर्वे करना था। सर्वे के साथ ही आम नागरिक को स्वच्छता को लेकर डस्टबिन वितरण कर उसके उपयोग के बारे में जानकारी देना था। लेकिन नगर परिषद और स्वछता टीम के अधिकारियों कर्मचारियों ने नगर में भ्रमण किया। और जगह-जगह हर वार्ड में डस्टबिन रखकर फोटो खींचकर डस्टबिन को साथ में रख कर ले गए। जबकि स्थानीय लोगों के मुताबिक स्वछता टीम एवं नगर परिषद पिछोर के कर्मचारियों के द्वारा किसी भी नगर निवासी को डस्टबिन नहीं दिया गया और ना ही उसके उपयोग के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई। पिछोर नगर परिषद के जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा पिछोर नगर परिषद का फीडबैक बिना सर्वे के ही बना दिया गया।

नगर वासियों का कहना है कि डस्टबिन को हमारे घर के सामने रखकर हमारे फोटो खींच ले गए और जब हमने उनसे डस्टबिन मांगे तो उन्होंने कहा कि भोपाल से आएंगे जब देंगे। तो इस बात से ही है अंदाजा लगाया जा सकता है कि कहीं ना कहीं नगर परिषद पिछोर अपनी कमियां दबाने में लगी हुई है वही भोपाल से टीम के सदस्य भी संदिग्ध के घेरे में है जो की लापरवाही और भ्रष्टाचार की ओर इशारा करता है

वहीं इस बारे में प्रशासक बृजमोहन आर्य से बात की गई तो उन्होंने कहा कि आपके द्वारा मेरे संज्ञान में यह मामला सामने आया है। मैं इसकी उच्चस्तरीय जांच कर आऊंगा और कोई गड़बड़ी पाई जाती है। तो दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।