डबरा गैंगरेप : आरोपी के परिजन पहुंचे एसपी ऑफिस, घटना को बताया फर्जी, बोले-घटना के समय बच्चा कोचिंग में था, लड़की खुद कूदी

आरोपी के दादाजी ने दावा किया कि लड़की के साथ कोई घटना नहीं हुई उसे किसी ने पुल से फेंका भी नहीं हैं वो खुद पुल से कूदी है, हमने जब पुल पर जाकर पता लगाया तो वहां कुछ महिलाओं ने बताया कि लड़की अकेली पुल पर थी और मोबाइल पर बात करते करते कूद गई, महिलाएं वहां कंडे थाप रही थी वो दौड़कर पहुंची फिर और लोगों को बुलाकर लड़की को अस्पताल पहुँचाया, उन्होंने कहा कि पुलिस ने जल्दबाजी में हमारे बच्चे को पकड़ा है जबकि उसने कोई गलत काम ही नहीं किया।

Atul Saxena
Published on -
Dabra Gang Rape

Gwalior News : ग्वालियर के डबरा में 10 वीं में पढ़ने वाली नाबालिग लड़की के साथ हुई गैंगरेप की घटना में अब नया मोड़ आ गया है, लड़की ने जिन दो लड़कों पर सामूहिक दुष्कर्म और पुल से नीचे फेंकने का आरोप लगाया फिर पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए एक आरोपी को पकड़ भी लिया, उसके परिजनों ने एसपी ऑफिस पहुँच कर आवेदन दिया है और घटना को फर्जी बताया है, परिजनों का कहना है कि घटना के समय उनका बच्चा कोचिंग में था, वो निर्दोष है, उसके मोबाइल की डिटेल देख लो, कोचिंग के सीसीटीवी चैक कर लो , उन्होंने दावा किया कि लड़की खुद पुल से कूदी है लोगों ने उसे ऐसा करते देखा है।

पुलिस में दर्ज शिकायत में लड़की ने बताई उसके साथ हुई घटना 

डबरा में रहने वाली एक छात्रा ग्वालियर के निजी अस्पताल में भर्ती है उसकी रीढ़ की हड्डी में फ्रेक्चर है शरीर के अन्य अंगों में भी फ्रेक्चर है उसकी हालत चिंताजनक है। लड़की ने डबरा सिटी थाना पुलिस में 31 जनवरी को जो रिपोर्ट दर्ज कराई है उसके मुताबिक 29 जनवरी को सुबह के समय जब वो कोचिंग पढ़ने का रही थी तो उसे रास्ते में उसे कोचिंग में पढ़ने वाले दो लड़के मिले, उन्होंने जबरन उसे मोटरसाइकिल पर बैठाया और सहराई पुल पर ले गए वहां उन्होंने मेरे साथ दुष्कर्म किया और फिर मुझे पुल से नीचे फेंक दिया। घटना के बाद बच्ची बेहोश हो गई 30 फीट उंचाई से फेंके जाने से उसे मल्टीपल फ्रेक्चर हो गए, रीढ़ की हड्डी टूट गई , पैर की हड्डी टूट गई। रास्ते से गुजर रहे लोगों ने गाँव वालों की मदद से उसे अस्पताल पहुँचाया फिर परिजनों ने उसे ग्वालियर में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया जहाँ उसकी हालत अभी स्थिर बनी हुई है।

पुलिस से बोले आरोपी के दादा, घटना के समय उनका बच्चा कोचिंग में था 

घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने तत्काल एसआईटी गठित की और फिर दो आरोपियों में से एक आरोपी को पकड़ लिया, जबकि दूसरा अभी फरार है। पुलिस ने जिस आरोपी को पकड़ा उसके परिजन आज शुक्रवार को ग्वालियर एसपी ऑफिस पहुंचे और पूरी घटना को ही फर्जी बताया। उन्होंने कहा कि उनका बेटा निर्दोष है, लड़की जिस समय की घटना बता रही है उस समय तो उनका बच्चा कोचिंग में पढ़ रहा था, हमने पूछताछ की है, आरोपी के दादा बालकिशन ने पुलिस से कहा कि आप लड़के का मोबाइल चेक कर लें कोचिंग के सीसीटीवी चैक कर लें सब सच पता चल जायेगा।

आरोपी के दादा का दावा, लड़की खुद पुल से कूदी, महिलाओं ने उसे ऐसा करते देखा हैं 

आरोपी के दादाजी ने दावा किया कि लड़की के साथ कोई घटना नहीं हुई उसे किसी ने पुल से फेंका भी नहीं हैं वो खुद पुल से कूदी है। हमने जब पुल पर जाकर पता लगाया तो वहां कुछ महिलाओं ने बताया कि लड़की अकेली पुल पर थी और मोबाइल पर बात करते करते कूद गई, महिलाएं वहां कंडे थाप रही थी वो दौड़कर पहुंची फिर और लोगों को बुलाकर लड़की को अस्पताल पहुँचाया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने जल्दबाजी में हमारे बच्चे को पकड़ा है जबकि उसने कोई गलत काम ही नहीं किया।

पुलिस ने दिया भरोसा, दोषी बचेगा नहीं, निर्दोष को परेशान नहीं किया जायेगा 

उधर एडिशनल एसपी ऋषिकेश मीणा ने कहा कि आरोपी बच्चे के परिजन आये थे उन्होंने हमें घटना के बारे में कुछ तथ्य बताये हैं आरोपी के परिजनों ने एक आवेदन दिया है  उसमें उन्होंने कुछ एविडेंस भी दिए हैं , हम इनके बिन्दुओं को भी अपनी जाँच में शामिल करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारी एसआईटी को भी कुछ तथ्य मिले हैं, हम भरोसा दिलाते हैं कि यदि कोई दोषी होगा तो उसे सजा मिलेगी और यदि निर्दोष होगा तो उसे परेशान नहीं किया जायेगा।

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News