ग्वालियर-चंबल की रणनीति पर चर्चा, पूर्व मंत्री बोले- किले वालों का गढ़ अब ढ़ह गया

ग्वालियर।अतुल सक्सेना।

मध्यप्रदेश (madhypradesh) में 24 सीटों पर होने वाले विधानसभा चुनावों (vidhansabha election) में 22 सीटें वो हैं जो सिंधिया (scindia) के साथ जाने वाले विधायकों (MLAs) के इस्तीफों के कारण खाली हुई तीन। इनमें से ग्वालियर चंबल संभाग (Gwalior Chambal Division) की 16 सीटें बहुत महत्वपूर्ण है। इसीलिए सिंधिया का गढ़ कहे जाने वाले ग्वालियर चंबल अंचल पर कांग्रेस की पैनी निगाहें हैं। यहाँ लगातार पूर्व मंत्रियों के दौरे चल रहे हैं। कांग्रेस ने ग्वालियर जिले की तीनों विधानसभाओं के लिए पूर्व मंत्रियों तरुण भनोट, पीसी शर्मा और विजय लक्ष्मी साधो (Former ministers Tarun Bhanot, PC Sharma and Vijay Laxmi Sadho) को जिम्मेदारी सौंपी है। ग्वालियर पूर्व विधानसभा की जिम्मेदारी पूर्व मंत्री पीसी शर्मा के पास है वे मंगलवार को ग्वालियर दौरे पर थे। उन्होंने मंडलम और सेक्टर के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की और उनसे सीट जीतने को लेकर रणनीति पर चर्चा की।

सामने आई नाराजगी तो कराया शांत

ग्वालियर पूर्व विधानसभा से कांग्रेस से चुनाव जीते पूर्व विधायक मुन्ना लाल गोयल ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भाजपा में चले गए और अब इसी सीट सर भाजपा के उम्मीदवार भी होंगे। मुन्ना के खिलाफ कांग्रेस यहाँ से अपना प्रत्याशी तलाश रही है। इसके लिए दावेदार भी प्रभारियों से मुलाकात कर रहे है । इस दौरान उनकी नाराजगी भी सामने आ रही है। मंगलवार जो जब पीसी शर्मा कार्यकर्ताओं से रायशुमारी कर रहे थे तभी ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी सदस्य एवं पूर्व युवक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रश्मि पवार शर्मा ने भी अपनी दावेदारी की बात की जिस पर विधायक प्रवीण पाठक ने कहा कि टिकट तो सर्वे के आधार पर मिलेंगे। इस बात का जवाब देते हुए रश्मि ने कहा कि पिछली बार तो ग्वालियर दक्षिण से मेरा नाम सबसे उपर था लेकिन टिकट आपको मिला। इसी बात पर दोनों में हॉट टाक होने लगी जिसे पीसी शर्मा ने टोक कर शांत कराया। मीडिया ने जब शर्मा से झगड़े की बात पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कोई फूट नहीं है कोई झगडा नहीं है सब अपनी अपनी बात रख रहे हैं। मैं टिकट बांटने नहीं आया टिकट का फैसला कमलनाथ जी और हाई कमान को करना है।

सिंधिया पर बिना नाम लिए साधा निशाना

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि अब गढ़  ढ़ह गए है, पहले भी मतदाता ने कांग्रेस को टिकट दिया था और इस बार भी कांग्रेस को टिकट देगी। उन्होंने सिंधिया का नाम लिए बिना कहा कि जो खुद चुनाव नहीं जीत पाए वो क्या गढ़ की बात करेंगे। उन्होंने कहा कि अब बिकाऊ माल जा चुका है टिकाऊ लोग बचे हैं। कांग्रेस का कार्यकर्ता चुनाव लड़ेगा और सभी सीटें जीतेगा।