Gwalior में स्वर्ण रेखा नदी पर मलेशिया की तकनीक पर बनेगी एलिवेटेड रोड, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम शिवराज ने दी 1199 करोड़ की सौगात

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने समारोह में घोषणा की कि ग्वालियर शहर में स्वर्ण रेखा पर दोनों चरणों का एलिवेटेड रोड अत्याधुनिक मलेशिया से आई नई तकनीक के साथ बनाया जायेगा। एलिवेटेड के दोनों चरण के टेण्डर एक साथ निकाले जायेंगे।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। मध्य प्रदेश और ग्वालियर (MP, Gwalior) के लिए आज 15 सितम्बर का दिन ऐतिहासिक और यादगार बन गया जब केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari ) ने ग्वालियर में सौगातों की झड़ी लगा दी। ग्वालियर में स्वर्ण रेखा नदी पर बनने वाली एलिवेटेड रोड के शिलान्यास करते हुए उन्होंने घोषणा की कि एलिवेटेड रोड के प्रथम चरण के साथ ही दूसरे चरण के टेण्डर की प्रक्रिया भी शुरू हो जायेगी। स्वर्ण रेखा पर एलीवेटेड रोड निर्माण से ग्वालियर के विकास का नया अध्याय शुरू होगा। श्री गड़करी ने ग्वालियर से इटावा तक फोरलेन सड़क निर्माण की घोषणा भी की। नितिन गडकरी  ने एलिवेटेड रोड , अंतर्राज्यीय बस टर्मिनल (ISBT) और 122 किलोमीटर लम्बी 7 सड़कों सहित लगभग 1199 करोड़ रुपये की लागत के विकास कार्यों के शिलान्यास व लोकार्पण किया।

समारोह की अध्यक्षता कर रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि ग्वालियर विकास की नई उड़ाने भर रहा है इसे और गति दी जायेगी। उन्होंने घोषणा की कि लगभग 926 करोड़ रुपये की लागत की परियोजना के तहत चंबल व कोतवाल डैम से ग्वालियर के लिये पानी लायेंगे, जिससे शहर के सभी 66 वार्डों में दीर्घकाल तक पेयजल की आपूर्ति हो सकेगी। कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर (Union Minister Narendra Singh Tomar) तथा केंद्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Union Ministers Jyotiraditya Scindia) बतौर विशिष्ट अतिथि मौजूद थे।

Gwalior में स्वर्ण रेखा नदी पर मलेशिया की तकनीक पर बनेगी एलिवेटेड रोड, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम शिवराज ने दी 1199 करोड़ की सौगात

गोला का मंदिर मुरैना लिंक रोड पर ट्रिपल आईटीएम के सामने स्थित केंद्रीय दिव्यांगजन खेल परिसर में आयोजित हुए इस समारोह में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित अन्य अतिथियों ने एक जिला-एक उत्पाद तथा अन्य प्रदर्शनियों का अवलोकन किया। साथ ही दिव्यांग हितग्राहियों को बैटरी चलित मोटराईज्ड ट्राइस्किल प्रदान की और सरकार की स्वरोजगार एवं हितग्राहीमूलक योजनाओं के तहत 11 हितग्राहियों को प्रतीक स्वरूप सहायता वितरित की। अतिथियों ने रिमोट का बटन दबाकर विकास कार्यों का लोकार्पण व शिलान्यास और ग्वालियर व चंबल संभाग की तहसीलों को ई-ऑफिस में तब्दील किया।

ये भी पढ़ें – भोपाल : बिलाबोंग स्कूल प्रबंधन पर FIR, चेयरपर्सन प्रमोटर, चेयरमैन ऑपरेशन, प्रिंसीपल, ट्रासपोर्ट मैनेजर के खिलाफ मामला दर्ज

ग्वालियर में भी होगा लॉजिस्टिक पार्क का निर्माण

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने समारोह में घोषणा की कि ग्वालियर शहर में स्वर्ण रेखा पर दोनों चरणों का एलिवेटेड रोड अत्याधुनिक मलेशिया से आई नई तकनीक के साथ बनाया जायेगा। एलिवेटेड के दोनों चरण के टेण्डर एक साथ निकाले जायेंगे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि 6 लेन के आगरा – ग्वालियर ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे, यमुना एक्सप्रेस-वे से जुड़ेगा और मात्र तीन घंटे में दिल्ली से ग्वालियर की दूरी तय की जा सकेगी। लगभग 87 किलोमीटर लम्बे इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण लगभग 2500 करोड़ रुपये की लागत से होगा। उन्होंने घोषणा की कि आगरा-ग्वालियर एक्सप्रेस-वे के किनारे लॉजिस्टिक पार्क की स्थापना भी की जायेगी। केंद्रीय मंत्री ने यह भी घोषणा की कि ग्वालियर-आगरा के पुराने मार्ग का जीर्णोद्धार कर फोरलेन सीमेंट कंक्रीट मार्ग बनाया जायेगा, इसके आदेश जारी कर दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें – नेता प्रतिपक्ष डॉ गोविंद सिंह ने लिखा राज्यपाल को पत्र, पोषण आहार घोटाले को लेकर की ये बड़ी मांग

1200 करोड़ रुपये की लागत से ग्वालियर-भिण्ड मार्ग होगा फोरलेन

नितिन गड़करी ने कार्यक्रम में यह भी घोषणा की कि ग्वालियर – भिण्ड – इटावा राष्ट्रीय राजमार्ग को 1200 करोड़ रुपये की लागत से फोरलेन मार्ग में तब्दील किया जायेगा। इसकी डीपीआर तैयार की जा रही है। इसी तरह मुरैना से सबलगढ़ तक 300 करोड़ रुपये की लागत से 72 किलोमीटर लम्बा फोरलेन सड़क मार्ग बनाया जायेगा। केंद्रीय नरेन्द्र सिंह तोमर ने इन दोनों सड़क मार्गों के निर्माण की मांग रखी थी। केंद्रीय मंत्री तोमर की मांग को पूरा करते हुए उन्होंने मुरैना शहर में बैरियर चौराहे से रेलवे स्टेशन तक फ्लाईओवर बनाने की घोषणा भी की।

ये भी पढ़ें – Mission Cheetah : भारत पहुंचने वाले चीतों की तस्वीर जारी, कूनो नेशनल पार्क में अपने जन्मदिन पर पीएम मोदी छोड़ेंगे

अटल एक्सप्रेस-वे अन्य एक्सप्रेस-वे से जुड़ेगा

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ही कहा कि अटल एक्सप्रेस-वे के निर्माण से ग्वालियर-चंबल अंचल के विकास में क्रांतिकारी साबित होगा। लगभग 20 हजार करोड़  रुपये की लागत से कोटा से इटावा तक 415 किलोमीटर लम्बाई में बनने जा रहे इस एक्सप्रेस-वे का अगले तीन माह के भीतर भूमिपूजन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि यह एक्सप्रेस-वे बुन्देलखंड व यमुना एक्सप्रेस-वे तथा दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस-वे से जुड़ेगा। जाहिर है ग्वालियर चंबल अंचल के विकास को नए पंख मिलेंगे। उन्होंने  अटल एक्सप्रेस-वे के दोनों ओर लॉजिस्टिक पार्क, उद्योग, एज्यूकेशन हब बनाने का सुझाव मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को दिया।

फूलबाग से किले तक 120 करोड़ रुपये की लागत से होगा रोप-वे का निर्माण

केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने कार्यक्रम में घोषणा की कि ग्वालियर शहर में फूलबाग से किले तक 120 करोड़ रुपये की लागत से रोप-वे का निर्माण कराया जायेगा। इससे ग्वालियर के पर्यटन विकास में नए आयाम स्थापित होंगे।

जलालपुर में बनेगा रेलवे ओवरब्रिज

नितिन गड़करी ने ग्वालियर में जलालपुर – बरौआ के बीच नए रेलवे ओवरब्रिज बनाने की घोषणा भी इस अवसर पर की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश के राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार भारत सिंह कुशवाह ने इस ओर केंद्रीय मंत्री गड़करी का ध्यान आकर्षित किया था। इस आरओबी के निर्माण से जलालपुर व बरौआ सहित लगभग दो दर्जन गांवों को सुगम आवागमन की सुविधा मिलेगी। साथ ही शनिश्चरा मंदिर जाने वाले श्रृद्धालुओं को भी आवागमन में आसानी रहेगी।

इक्यूवेशन सेंटर बनाकर ग्वालियर को बनायेंगे औद्योगिक हब

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस अवसर पर घोषणा की कि ग्वालियर का औद्योगिक वैभव फिर से लौटायेंगे। इक्यूवेशन सेंटर का निर्माण कर ग्वालियर को फिर से औद्योगिक हब बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्वालियर तेज गति से बढ़ता हुआ शहर है। यहाँ पर आद्योगिक निवेश के साथ-साथ पर्यटन, मेडिकल व इलेक्ट्रॉनिक हब बनाने का काम भी किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार इस बात के लिये कटिबद्ध है कि हमारे युवा नौकरी मांगने वाले नहीं, नौकरी देने वाले बनें। साथ ही कहा कि सरकार एक साल के भीतर एक लाख भर्ती करने जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि आगरा एक्सप्रेस-वे व चंबल एक्सप्रेस-वे के दोनों ओर औद्योगिक धंधे स्थापित होंगे, जिससे रोजगार के नए अवसर मिलेंगे।

Gwalior में स्वर्ण रेखा नदी पर मलेशिया की तकनीक पर बनेगी एलिवेटेड रोड, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम शिवराज ने दी 1199 करोड़ की सौगात

रॉक्सी पुल से महाराज बाड़ा तक बनेगा फ्लाई ओवर

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ग्वालियर शहर को आधुनिक शहर बनाने की बड़ी में रॉक्सी पुल से महाराज बाड़ा तक और हजीरा क्षेत्र में फ्लाई ओवर बनाए जायेंगे। उन्होंने कहा कि एलिवेटेड रोड के द्वितीय चरण के काम और फूलबाग से किले तक के रोप वे के निर्माण में भी राज्य सरकार हर संभव सहयोग करेगी।

Gwalior में स्वर्ण रेखा नदी पर मलेशिया की तकनीक पर बनेगी एलिवेटेड रोड, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम शिवराज ने दी 1199 करोड़ की सौगात

उत्कृष्ट सड़कों के निर्माण से देश की तस्वीर व तकदीर बदल रही है

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि देश में उत्कृष्ट सड़कें व अधोसंरचना का निर्माण हो रहा है, इससे देश की तस्वीर व तकदीर बदल रही है। उन्होंने कहा वर्ष 2014 से पहले जहाँ प्रतिदिन मात्र तीन किलोमीटर हाईवे का निर्माण होता था, वहीं अब 38 किलोमीटर हाईवे का निर्माण प्रतिदिन किया जा रहा है। एक्सप्रेस-वे व सड़क कोरीडोर के निर्माण से देश के विकास में तेजी आई है। उन्होंने कहा देश के अधोसंरचनागत विकास में केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी का बहुत बड़ा योगदान है। श्री तोमर ने इस अवसर पर ग्वालियर-भिण्ड-इटावा-लखनऊ मार्ग को 6 मार्गीय बनाने, एक्सप्रेस-वे के किनारे लॉजिस्टिक पार्क का निर्माण, एलीवेटेड रोड़ का द्वितीय चरण, मुरैना-सबलगढ़-पाली तक नेशनल हाईवे का निर्माण और मुरैना में बैरियर चौराहे से रेलवे स्टेशन तक फ्लाईओवर बनाने की मांग रखीं, इनमें से अधिकांश मांगों को केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने पूरा करने की कार्यक्रम में घोषणा की।

Gwalior में स्वर्ण रेखा नदी पर मलेशिया की तकनीक पर बनेगी एलिवेटेड रोड, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम शिवराज ने दी 1199 करोड़ की सौगात

केंद्र व राज्य सरकार के साझा प्रयासों से ग्वालियर को आधुनिक शहर बनायेंगे

केंद्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकारों के साझा प्रयासों से ग्वालियर को ऐसा आधुनिक शहर बनायेंगे, जिससे शहर में अगले 50 सालो तक बुनियादी सुविधाओं की कोई कमी नहीं रहेगी। उन्होंने एलिवेटेड रोड सहित ग्वालियर को अन्य सौगातें देने के लिये केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी के प्रति आभार जताया। साथ ही लॉजिस्टिक पार्क, एलिवेटेड रोड के द्वितीय चरण का काम सहित ग्वालियर शहर के अन्य विकास कार्यों की मांग रखी, जिसे केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री गड़करी ने स्वीकार कर लिया।

Gwalior में स्वर्ण रेखा नदी पर मलेशिया की तकनीक पर बनेगी एलिवेटेड रोड, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम शिवराज ने दी 1199 करोड़ की सौगात

ग्वालियर को औद्योगिक हब बनाने के लिए ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह ने किया आग्रह

क्षेत्रीय  विधायक एवं ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने ग्वालियर को विकास की बड़ी-बड़ी सौगातें देने के लिये मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं केंद्रीय मंत्रिगणों के प्रति दंडवत होकर आभार जताया । साथ ही मांग की कि युवाओं के चेहरे पर चमक लाने के लिये ग्वालियर को फिर से औद्योगिक हब बनाया जाए। उन्होंने जेसी मिल के शेष श्रमिकों को भी पट्टे दिलाने की मांग भी इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान से की।

एलिवेटेड रोड से महानगर का रूप लेगा ग्वालियर शहर

फ्लाई ओवर के रूप में बनने जा रही फोर लेन  एलिवेटेड रोड से ग्वालियर शहर महानगर का रूप लेगा। इस एलिवेटेड रोड के निर्माण से शहरवासियों को ट्रैफिक जाम से मुक्ति तो मिलेगी ही, साथ ही यह शहर के चहुँमुखी विकास और लोगों के जीवन स्तर में बदलाव लाने में कारगर साबित होगा। सीआईआरएफ (केन्द्रीय सड़क अधोसंरचना निधि) से ग्वालियर शहर में स्वर्ण रेखा नदी पर प्रथम चरण में ट्रिपल आईटीएम कॉलेज से महारानी लक्ष्मीबाई समाधि तक लगभग 7 किलोमीटर लम्बाई में लगभग 406 करोड़ रुपये की लागत से फोर लेन एलिवेटेड रोड का निर्माण होने जा रहा है। दूसरे चरण में लक्ष्मीबाई समाधि से गिरवाई तक लगभग 11 किलोमीटर लम्बाई में एलिवेटेड रोड का निर्माण किया जायेगा।

ग्वालियर शहर के सुनियोजित विकास में अहम कड़ी के रूप में जुड़ेगा आईएसबीटी

स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत लगभग 64 करोड़ 22 लाख रुपये की लागत से हैरीटेज थीम पर आईएसबीटी (अंतर्राज्यीय बस टर्मिनल) का निर्माण होने जा रहा है। यहाँ गोले का मंदिर मुरैना लिंक रोड पर स्थित हजीरा थाने के समीप करीब 25 एकड़ भूमि पर आईएसबीटी का निर्माण होगा। बस टर्मिनल में 52 प्लेटफॉर्म बनाए जायेंगे। साथ ही टर्मिनल परिसर में 80 बसों की पार्किंग के लिये अलग से व्यवस्था रहेगी। इस प्रकार एक साथ कुल 132 बसें टर्मिनल परिसर में खड़ी हो सकेंगीं। आईएसबीटी परिसर का भवन ग्रीन बिल्डिंग कंसेप्ट के तहत तैयार होगा। साथ ही अत्याधुनिक सार्वजनिक शौचालय, दिव्यांगों के लिये बाधा रहित आवागमन, बस चालकों के लिये विश्राम गृह तथा निजी वाहन, ऑटो, कैब व टैक्सी इत्यादि के लिए पिक एण्ड ट्रॉप लेन बनाई जायेंगीं। बसों के लिये वर्कशॉप क्षेत्र का प्रावधान भी किया गया है।

इन कार्यों का भी हुआ शिलान्यास व लोकार्पण

केंद्रीय मंत्री  नितिन गड़करी एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तथा अन्य अतिथियों द्वारा एलिवेटेड रोड व आईएसबीटी के शिलान्यास के अलावा जिन कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण किया गया, उनमें सीआरआईएफ योजना के अंतर्गत चीनौर-करहिया एवं करहिया-भितरवार सड़कमार्ग एवं डबरा-पिछोर रोड़ से कटारे बाबा की समाधि-बडेरा के बीच सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास शामिल है। साथ ही सीआरआईएफ योजना के अंतर्गत ग्वालियर शहर में आगरा लूप से शताब्दीपुरम मार्ग पर एक किलोमीटर लम्बाई में लगभग 21 करोड़ रुपये की लागत से बनाए गए रेलवे ओवरब्रिज और लगभग 6 करोड़ 67 लाख रुपये की लागत से बनकर तैयार हुए 100 सीटर शासकीय दृष्टि एवं श्रवण बाधितार्थ उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन का लोकार्पण किया गया। इसके अलावा अतिथियों ने सीआरआईएफ योजना के अंतर्गत ही कोलारस जिला शिवपुरी के अंतर्गत मेघोनाबाड़ा से अमरौद (मुँगावली जिला अशोकनगर) तक सड़क निर्माण कार्य का भी लोकार्पण किया।