गांधी के हत्यारे का महिमामंडन, ज्ञान शाला के बाद अब गोडसे बयान अध्ययन माला

हिन्दू महासभा वीर सावरकर सरोवर के गेट पर लगे ताले को खोलकर वहां लगी सावरकर की प्रतिमा को बंधन मुक्त करने की मांग कर रही है।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse)  और उनके साथी नारायण आप्टे (Narayan Apte) को पूजने वाली हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha)  ने एक बार फिर दोनों का महिमामंडन किया है। हिन्दू महासभा ने बुधवार को पार्टी कार्यालय में नाथूराम गोडसे के बयानों के बयानों और भाषणों को जन जन तक पहुँचाने के लिए गोडसे बयान अध्ययन माला का शुभारम्भ किया।  पार्टी ने इसी के साथ अम्बाला शहर से लायी गई मिट्टी का पूजन भी किया।

गांधी के हत्यारे का महिमामंडन, ज्ञान शाला के बाद अब गोडसे बयान अध्ययन माला गांधी के हत्यारे का महिमामंडन, ज्ञान शाला के बाद अब गोडसे बयान अध्ययन माला

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाली हिंदू महासभा चर्चा में हैं। गोडसे का मंदिर स्थापित करने,  गोडसे ज्ञान शाला शुरू  करने के बाद हिन्दू महासभा ने गोडसे बयान अध्ययन माला का शुभारंभ किया है। पार्टी कार्यालय दौलतगंज में हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने अंबाला से उनके द्वारा लायी गई मिट्टी के कलश का पूजन किया।  गौरतलब है कि 15 नवंबर 1949 को नाथूराम गोडसे और उसके साथी नारायण आप्टे को महात्मा गांधी की हत्या के जुर्म में अंबाला जेल में फांसी दी गई थी।

ये भी पढ़ें – ICU में सीवर का पानी, 24 घंटे में 53 बच्चे डेंगू के शिकार, स्वास्थ्य विभाग पर सवाल

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ जयवीर भारद्वाज का कहना है कि 1 करोड़ 84 लाख लोगों तक गोडसे का बयान पढ़वाया और सुनाया जायेगा। इसे  यू ट्यूब, व्हाट्स एप सहित अन्य सोशल नेटवर्क साइट पर हिन्दू महासभा के कार्यकर्ता भेजेंग।  उन्होंने मांग की कि ग्वालियर में ताले में बंद वीर सावरकर की प्रतिमा को बंधनमुक्त किया वर्ना 12 नवम्बर को हिन्दू महासभा खुद ये काम करेगी।

ये भी पढ़ें – Cabinet Meeting: 36000 कर्मचारी होंगे नियमित, विधेयक को मंजूरी, न्यूनतम वेतन में भी वृद्धि

गौरतलब है कि नाथूराम गोडसे को पूजने वाली हिन्दू महासभा ने 2017 पार्टी कार्यालय में गोडसे की मूर्ति स्थापित की थी,जिसके बाद काफी विवाद हुआ था। राष्ट्रपिता के हत्यारे का मंदिर बनने के बाद जिला प्रशासन हरकत में आया था और मंदिर बंद कराकर गोडसे की मूर्ति को जब्त कर लिया था।  10 जनवरी 2021 को युवाओं को गोडसे के साहित्य और इतिहास से परिचित कराने के लिए हिन्दू महासभा ने गोडसे ज्ञान शाला का शुभारम्भ किया था जिसे प्रशासन ने  बाद ही बंद करा दिया था  और अब 1 करोड़ से अधिक लोगों तक गोडसे के बयान पहुँचाने के लिए गोडसे बयान अध्ययन माला शुरू की गई है। देखना होगा ये कितने दिन चलती है।