Gwalior News:सड़क और सफाई को लेकर प्रभारी मंत्री सख्त,दिया अल्टीमेटम

अब देखने योग्य बात यह रहेगी कि अधिकारी कितनी तेज़ी और तत्परता के साथ प्रभारी मंत्री के आदेशों का पालन करते हैं।

ग्वालियर, डेस्क रिपोर्ट। ग्वालियर प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने बुधवार को जिले का दौरा कर समीक्षा बैठक ली। सिलावट ने बुधवार को मध्य प्रदेश सरकार द्वारा 25 और 26 अगस्त को चलाए जा रहे वैक्सीनेशन महाभियान चरण 2 का भी शुभारंभ किया।

Gwalior News:सड़क और सफाई को लेकर प्रभारी मंत्री सख्त,दिया अल्टीमेटम

प्रभारी मंत्री सिलावट के तेवर जिले मे सड़कों और सफाई को लेकर सख्त है। सिलावट ने बुधवार को ग्वालियर जिले के आला अधिकारियों के साथ नगर निगम ग्वालियर के कार्यों की समीक्षा बैठक ली। बैठक में मौजूद सभी अधिकारियों को आदेश देते हुए प्रभारी मंत्री ने दस दिन में बदहाल पड़ी सड़कों के पैच रिपेयर का कार्य पूरा करने के लिए कहा। साथ ही सिलावट ने निर्देशों का पालन पूरी तत्परता और ईमानदारी के साथ करने की बात कहते हुए कहा कि वे काम में किसी भी प्रकार के किंतु परंतु को बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने इंदौर की तर्ज पर ग्वालियर में स्वच्छता कार्य करने की बात भी कही।

अधिकारियों को निर्देश देते हुए प्रभारी मंत्री ने कहा कि “कार्यों को पूरा करने के लिए निगम समिति बनाए, कार्य की मॉनिटरिंग अच्छी तरह से हो, कार्य की स्थिति और जानकारी निरंतर जिला अधिकारियों को दी जाए, किसी भी प्रकार की लापरवाही के लिए दंडात्मक कार्यवाही हो”। जिले में स्वच्छता की स्थिति पर बात करते हुए सिलावट ने कहा कि जिले में स्वच्छता की स्थिति अच्छी नहीं है, इसके लिए अपर आयुक्त स्तर के अधिकारियों को विधानसभावार जिम्मेदारी सौंपी जाए। सुबह की सफाई के साथ-साथ रात्रिकालीन सफाई भी निगम तत्काल प्रारंभ करे।

कर्मचारियों को राज्य सरकार का तोहफा, 28% बढ़ाया गया DA, 1 सितंबर से बढ़ेगी सैलरी

इसके साथ ही उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि “टीकाकरण ही एकमात्र ऐसा साधन है जिससे कोरोना का बचाव किया जा सकता है”।इसके साथ ही उन्होंने टीकाकरण कराने आए लोगों का रोली चावल और पुष्प के साथ सम्मान किया।

MP News: कर्मचारियों के वेतनवृद्धि को लेकर बड़ी खबर, विभाग ने जारी किया आदेश, मिलेगा लाभ

सिलावट ने जिले के साथ साथ आस पास के गांव में जाकर भी वैक्सीन सेंटर पर आए लोगों से बातचीत की और लोगों को टीकाकरण के प्रति जागरूक किया। इस दौरान सिलावट के साथ पूर्व मंत्री इमरती देवी भी मौजूद रहीं।

हालांकि बात करें बदहाल सड़कों की और सफाई की तो जिले की मुख्य तहसीलों में हालात और भी बुरे हैं। डबरा तहसील का आलम यह है कि गंदगी और बदहाली यहां अपने पैर पूरी तरह पसार चुकी है। उबड़ खाबड़ सड़क, जगह जगह पड़े गंदगी के ढेर, गुणवत्ताओं को दरकिनार कर कराया जा रहा पैच रिपेयर व अन्य सरकारी निर्माण, निरंतर बढ़ता हुआ अतिक्रमण, आवारा जानवरों का प्रकोप और सोता नगर पालिक प्रशासन शहर के लिए आम बात हो गई है। गौरबतल देखना यह होगा कि प्रभारी मंत्री के आदेशानुसार सौंपी जा रही विधानसभावार जिम्मेदारियों में डबरा के लिए स्वच्छता और विकास के रूप में खुशहाली आती है या कुछ और!