Gwalior News: ई-रिक्शा पंजीयन के लिए अंतिम मौका, 23 से 29 जून तक होंगे पंजीयन, बिना रजिस्ट्रेशन चलते मिले तो होगा एक्शन

ई-रिक्शा पंजीयन न कराने के लिये लोगों को भ्रमित करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने बैठक में कहा कि भ्रमित करने वाले लोगों को खुफिया तौर पर चिन्हित किया जा रहा है।

Atul Saxena
Published on -
E-Rickshaw
Gwalior News: शहर में बेतहाशा बढ़ते जा रहे ई रिक्शे और इनके कारण यातायात प्रबंधन में आ रही परेशानी को देखते ही जिला प्रशासन ने सभी ई रिक्शों का पंजीयन शुरू किया है और इनके रूट निर्धारित करने का फैसला किया है लेकिन कुछ लोगों द्वारा भ्रम किस स्थिति पैदा करने के कारण बहुत स इ रिक्शा चालक पंजीयन कराने से कतरा रहे हैं लेकिन अब प्रशासन सख्ती करने के मूड में आ गया है।

23 से 29 जून तक होंगे ई-रिक्शा पंजीयन

जिला प्रशासन ने ई-रिक्शा का पंजीयन कराने के लिये एक हफ्ते का अंतिम मौका दिया गया है। शहर में नाके लगाकर आधा दर्जन स्थानों पर ई-रिक्शा का पंजीयन किया जायेगा। इन नाकों पर 23 से 29 जून तक ई-रिक्शा पंजीयन की कार्यवाही की जायेगी। अंतिम  तिथि के बाद यदि बगैर पंजीयन के कोई ई-रिक्शा मिला तो उसे जब्त करने की कार्रवाई की जायेगी। इस आशय का निर्णय शहर की यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने के उद्देश्य से कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान की अध्यक्षता एवं पुलिस अधीक्षक  धर्मवीर सिंह की मौजूदगी में आयोजित हुई बैठक में लिया गया। बैठक में फैसला लिया गया कि जो ई-रिक्शा चालक पहले पंजीयन करायेंगे उन्हें ई-रिक्शा के रूट चयन में प्राथमिकता दी जायेगी।
शुक्रवार को बाल भवन में आयोजित हुई बैठक में नगर निगम आयुक्त हर्ष सिंह, स्मार्ट सिटी की सीईओ श्रीमती नीतू माथुर, अपर आयुक्त नगर निगम मुनीष सिकरवार व क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी  एच के सिंह सहित जिला प्रशासन, नगर निगम, पुलिस एवं यातायात व्यवस्था से जुड़े अधिकारी मौजूद थे।

जो ई-रिक्शा बगैर पंजीयन के मिलेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी

बैठक में स्पष्ट किया गया कि ई-रिक्शा के आगे वाली विंड स्क्रीन पर मूल पंजीयन पत्र अनिवार्यत: चस्पा करना होगा। पंजीयन की अंतिम तिथि के बाद शहर भर में अभियान बतौर ई-रिक्शा का निरीक्षण किया जायेगा और जो ई-रिक्शा बगैर पंजीयन के मिलेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। नाबालिगों से ई-रिक्शा चलवाने की प्रवृत्ति को सख्ती से रोकने का निर्णय भी बैठक में लिया गया।  ज्ञात हो शहर की यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिये ई-रिक्शा रूट निर्धारित किए जा रहे हैं। पंजीकृत ई-रिक्शा में से लॉटरी निकालकर यह तय किया जायेगा कि कौन सा ई-रिक्शा किस रूट पर चलेगा।

इन स्थानों पर नाके लगाकर किया जायेगा ई-रिक्शा का पंजीयन 

ग्वालियर शहर में 6 विभिन्न स्थानों पर 23 से 29 जून तक ई-रिक्शा का पंजीयन किया जायेगा। इन स्थानों में हजीरा, गोले का मंदिर, फूलबाग चौराहा, महाराज बाड़ा व आमखो शामिल हैं। ई-रिक्शा पंजीयन की मॉनीटरिंग का काम स्मार्ट सिटी के कंट्रोल एवं कमाण्ड सेंटर के माध्यम से होगा। कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने पंजीयन स्थलों एवं तिथियों के बारे में स्मार्ट सिटी के आईटीएमएस पब्लिक एनाउंसमेंट सिस्टम से व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए हैं। ज्ञात हो ग्वालियर शहर में विभिन्न तिराहों-चौराहों सहित कुल 31 स्थानों पर स्मार्ट सिटी के पब्लिक एनाउंसमेंट सिस्टम लगे हैं।

भ्रम फैलाने वालों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई

ई-रिक्शा पंजीयन न कराने के लिये लोगों को भ्रमित करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने बैठक में कहा कि भ्रमित करने वाले लोगों को खुफिया तौर पर चिन्हित किया जा रहा है। अधिकारी द्वय ने स्पष्ट किया है कि शहर की यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने एवं ई-रिक्शा चालकों के हित में ई-रिक्शा का पंजीयन कर रूट निर्धारित किए जा रहे हैं।

About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News