Gwalior News : झाँसी से आई अमर शहीद ज्योति यात्रा का आत्मीय स्वागत, आज मीनाक्षी ताई पिसवे को मिलेगा वीरांगना सम्मान, कैलाश विजयवर्गीय विशेष रूप से रहेंगे मौजूद

Atul Saxena
Published on -
Rani Laxmibai

Gwalior News : भारत की आजादी की महानायिका रानी लक्ष्मीबाई का आज बलिदान दिवस है, अंग्रेजों से लोहा लेते हुए लक्ष्मीबाई ने 18 जून 1857 को देश के लिए न्योछावर कर दिया था, देश आज उनका 166 वां बलिदान दिवस मना रहा है। ग्वालियर में रानी की शहीद स्थली पर भी विशेष आयोजन हो रहे हैं, यहाँ दो दिवसीय बलिदान मेले का आयोजन हो रहा है, बीती रात झाँसी से बुंदेलखंड के युवाओं द्वारा लायी गई अमर शहीद ज्योति यात्रा का ग्वालियरवासियों ने आत्मीय स्वागत किया, ज्योति को समाधि के पास स्थापित किया गया।

पिछले 25 वर्षों से ग्वालियर में आयोजित हो रहा वीरांगना बलिदान मेला  

रानी की शौर्यगाथा जन जन तक पहुँचाने वाले उन्हें अपना आदर्श मानने वाले  मध्य प्रदेश शासन के पूर्व मंत्री जयभान सिंह हर साल समाधि स्थल पर दो दिवसीय बलिदान मेला आयोजित करते हैं, पिछले 25 वर्षों से ये अनवरत जारी है, इस साल भी 17 और 18 जून को कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं।

झाँसी से ग्वालियर पहुंची अमर शहीद ज्योति यात्रा

कल 17 जून की रात ग्वालियर की रात ऐसी थी जैसे भगवा में रंगे आजादी के दीवानों की रात थी, गाजे बजे के साथ बुंदेलखंड के युवा हर साल की तरह इस साल भी झाँसी के किले से अमर शहीद ज्योति यात्रा लेकर निकले, उनके आगे घोड़े पर रानी के प्रतीक के रूप में एक बालिका चल रही थी। युवाओं ने ज्योति मेला आयोजक जयभान सिंह पवैया को  सौंपी, पवैया ने श्रद्धा पूर्वक ज्योति को माथे से लगाया और फिर समाधि के पास इसे स्थापित कर दिया।

रानी के अस्त्र शस्त्रों की प्रदर्शनी आकर्षण का केंद्र 

इस अवसर पर आयोजन स्थल पर रानी के अस्त्र शस्त्रों की प्रदर्शनी भी लगाई गई, ग्वालियर नगर निगम के संग्रहालय में रखी रानी के शौर्य की इस ऐतिहासिक और अनमोल धरोहर को हर साल की तरह इस साल भी जनता के आमने सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित किया गया, इसमें झाँसी से लड़ते हुए ग्वालियर में शहीद होने तक रानी का पूरा सफ़र भी प्रदर्शित किया गया है।

देश के प्रख्यात कवि आज करेंगे रचनापाठ, महानाट्य भी होगा  

जयभान सिंह पवैया के मुताबिक आज 18 जून की शाम बलिदान दिवस पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे जिसमें कवि सम्मेलन और महानाट्य आकर्षण का केंद्र होंगे, कवि सम्मेलन में देश के जाने माने कवि हरिओम पवार, विष्णु सक्सेना, विनीत चौहान, शम्भू शिखर, जोनी बैरागी, अनिल अग्निवंशी, योगिता चौहान, सुमित ओरछा और मोहित सिंह रचना पाठ करेंगे, महानाट्य “खूब लड़ी मर्दानी” में घोड़े , ऊंट, हाथी शामिल रहेंगे करीब एक सैकड़ा कलाकार प्रस्तुति देंगे।

वीरांगना सम्मान दिया जायेगा, मंत्री कैलाश विजयवर्गीय होंगे मुख्य अतिथि 

इस मौके पर प्रख्यात समाजसेविका मीनाक्षी ताई पिसवे को वीरांगना सम्मान दिया जायेगा, क्रांतिकारियों के परिजनों का सम्मान होगा, शहीदों के परिजनों का सम्मान भी होगा, कार्यक्रम की अध्यक्षता महामंडलेश्वर उत्तम स्वामी महाराज , मुख्य अतिथि प्रदेश के नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय होंगे।

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News