फर्जी कागजों से फायनेंस का खेल, 17 गाड़ियां बरामद, आप रहिये सावधान

इस गिरोह ने पिछले एक साल में करीब 50 गाड़ियां फायनेंस कराई हैं और ग्राहकों को आधी कीमत पर बेची हैं। 

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो फर्जी कागजों के आधार पर गाड़ियां फायनेंस कराते थे और फिर उसकी किश्त जमा नहीं करते थे। पुलिस (Gwalior Police) ने बजाज ऑटो फायनेंस कंपनी की शिकायत पर जब जांच को तो गिरोह का खुलासा हुआ। तीन लोग मिलकर ये फर्जीवाड़ा कर रहे थे।  पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 17 दुपहिया वाहन जब्त किये हैं जिनकी कीमत करीब 14 लाख रुपये है।

फर्जी कागजों से फायनेंस का खेल, 17 गाड़ियां बरामद, आप रहिये सावधान

एसएसपी ग्वालियर अमित सांघी (Gwalior SSP Amit Sanghi) ने मीडिया को जानकारी दी कि 11 मई को बजाज ऑटो फायनेंस कंपनी के असिस्टेंट मैनेजर अनिरुद्ध पांडेय ने शिकायत की कि कुछ लोगों ने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर जिसमें आधार कार्ड भी शामिल हैं, दो पहिया वाहन फायनेंस करा लिए है और ऐसे लोग किश्त भी जमा नहीं कर रहे।

शिकायत के बाद एसएसपी ने एडिशनल एसपी क्राइम राजेश दंडोतिया (Adsp Crime Rajesh Dandotiya) को इस फर्जीवाड़े का पता करने के निर्देश दिये। पुलिस ने मुखबिर तंत्र मजबूत किया। मुखबिर की सूचना पर क्राइम ब्रांच पुलिस महाराजपुरा थाना क्षेत्र के आदित्यपुरम में एक आरोपी के घर तक पहुँच गई। पुलिस (Gwalior Crime Branch Police) ने जब उससे कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपने दो साथियों के साथ इस फर्जीवाड़े को स्वीकार किया। पुलिस ने आरोपी के घर से 9 दो पहिया गाड़ियां बरामद की जो उसने बेचने के लिए रखी थीं।

ये भी पढ़ें – मप्र हाईकोर्ट ने स्कूल शिक्षा विभाग के ज्वाइंट डायरेक्टर-DEO को भेजा नोटिस, पूछा- पदस्थापना क्यों नहीं दी?

आरोपी ने बताया कि वो भिंड जिले के  मौ थाना क्षेत्र के गांव डांग छेकुरी का रहने वाला है अभी ग्वालियर में आदित्यपुरम में रहता है,  उसके दो साथी भिंड में रहते हैं उनके पास भी कुछ गाड़ियां हैं।  पुलिस पार्टी गिरफ्तार आरोपी के साथ भिंड गई। पुलिस ने दूसरे आरोपी को अटेर रोड पेट्रोल पंप के पास भिंड से पकड़ा इस आरोपी की दुकान से पुलिस ने 8 दो पहिया गाड़ियां बरामद की।

ये भी पढ़ें – 17 साल से फरार इनामी अपराधी चढ़ा पुलिस के हत्थे मौके से 12 बोर बन्दूक व कारतूस के जप्त

अब पुलिस तीसरे आरोपी को पकड़ने शिवाजी नगर गई और उसे उसके घर से उठा लिया।  पकड़े गये तीसरे आरोपी ने बताया कि नगर पालिका के पास उसकी ऑनलाइन की दुकान है जहां पर उसने  ये  सभी फर्जी दस्तावेज तैयार किये थे। क्राइम ब्रांच ने आरोपी की दुकान से एक लेपटॉप, एक प्रिंटर एवं एक फिंगर प्रिंट मशीन को जब्त कर लिया और तीनों के खिलाफ क्राइम ब्रांच थाने में मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया।

ये भी पढ़ें – IRCTC दे रहा कश्मीर घूमने का शानदार मौका, यहां जानें बुकिंग की डिटेल

एसएसपी अमित सांघी ने बताया कि क्राइम ब्रांच पुलिस ने तीन आरोपियों से अभी कुल 17 गाड़ियां बरामद की हैं, जिसकी कीमत 14 लाख रुपये है। आरोपियों के पास से फर्जी पेन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक, फायनेंस कंपनी की नकली सील मिली है। पता चला है इस गिरोह ने पिछले एक साल में करीब 50 गाड़ियां फायनेंस कराई हैं और ग्राहकों को आधी कीमत पर बेची हैं।  गिरोह में और चार पांच सदस्य हो सकते हैं जिनका पता लगाया जा रहा है।