He-has-been-suffering-in-hospital-premises-for-6-days-doctors-not-showing-humanity-

ग्वालियर । अंचल के सबसे बड़े अस्पताल जयरोग्य अस्पताल में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर के सामने लावारिस युवक की तड़प तड़प कर मौत हो गई है। मृतक कई दिनों से घायल हालत में अस्पताल के बाहर पड़ा हुआ था और उसके शरीर में कीड़े रहे थे। आख़िरकार उसने दम तोड़ दिया।

दअरसल जयरोग्य अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर के सामने कुछ लोगों को एक घायल युवक दिखाई दिया। युवक के हाथों की हथेली को कीड़े खा चुके थे उसके सिर और गर्दन पर भी सैकडों कीड़े बिलबिला रहे थे। अस्पताल में मौजूद मरीज के अटेंडरों ने कई बार अस्पताल के स्टाफ और डॉक्टरों से उसके इलाज के लिए बोला लेकिन उसे देखकर भी अस्पताल के स्टाफ और डॉक्टरों की इंसानियत नहीं जागी। वहां मौजूद लोगों ने बताया कि ये युवक 6 दिनों से इसी ट्रॉमा सेंटर के सामने पड़ा हुआ है। जिसपर किसी ने ध्यान नहीं दिया।  जयारोग्य अस्पताल के अधीक्षक अशोक मिश्रा को जब इसकी जानकारी दी गई तो उन्होंने तत्काल घायल व्को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया। लेकिन युवक ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।। यह युवक कौन था और कहां का रहनेे वाला था इस बात का पता नहीं चल सका है। अपना बचाव करते हुए अस्पताल स्टाफ का कहना है कि युवक विक्षिप्त था और उसे इलाज के लिए पहले भर्ती किया था लेकिन बाहर वह निकल आया और यहां मरीजों के अटेंडरों को परेशान करता था। लेकिन सबसे बड़ी लापरवाही स्टाफ और डॉक्टर की येे रही है कि अगर उसे समय रहते इलाज दिया जाता तो शायद उसकी जान बच जाती ।