उच्च शिक्षा मंत्री का युवाओं से आह्वान “गांधी के विचार के विरोधियों के खिलाफ खड़े रहें”

ग्वालियर। आईटीएम यूनिवर्सिटी ग्वालियर का चौथा दीक्षांत समारोह शनिवार को प्रदेश के उच्च शिक्षा और खेल एवं युवा कल्याण मंत्री जीतू पटवारी के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ। उन्होंने डिग्री प्राप्त करने वाले युवाओं को भविष्य के लिए शुभकामनायें देते हुए कहा कि अब आप बड़ी दुनियां में प्रवेश करने जा रहे हैं इसके लिए आपको काबिल बनने की जरूरत है। मंत्री ने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि आज गांधी के विचारों की बहुत जरूरत है लेकिन कुछ लोग इसके खिलाफ हैं इसलिए आपको गांधी के विचारों के विरीधियों के खिलाफ खड़े रहना है।

आईटीएम विश्वविद्यालय के सिथौली कैम्पस के ओपन नाद एम्फीथिएटर में आयोजित  दीक्षांत समारोह की शुरुआत प्रसिद्ध न्यूक्लियर वैज्ञानिक एवं पोखरण परमाणु परीक्षण में प्रमुख भूमिका निभाने वाले पद्मविभूषण डॉ. राजगोपाला चिदंबरम, प्रसिद्ध पर्यावरणविद डॉ. वंदना शिवा, छुआछूत मिटाने और दलितों के उत्थान के लिए काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता मार्टिन मकवान, उड़नपरी पद्मश्री पीटी ऊषा, प्रसिद्ध कत्थक नर्तक पद्मविभूषण बिरजू महाराज, अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पत्रकार और लेखक मार्क टुली और सुप्रसिद्ध फिल्म स्टार पद्मविभूषण नसीरुद्दीन शाह 

को डॉक्टरेट की मानद उपाधियां प्रदान की गईं । लेकिन बिरजू महाराज और नसीरुद्दीन शाह बीमार होने के कारण और मार्क टुली के भाई की मृत्यु हो जाने के कारण कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके मगर उन्होंने उपाधियाँ स्वीकार कर सभी के लिए वीडियो मैसेज भेजे। कार्यक्रम में अपने विषय में टॉप करने वाले 26 स्टूडेंट को गोल्ड मैडल प्रदान किये गए साथ ही 930 स्टूडेंट को ग्रेजुएशन की उपाधि प्रदान की गई । कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए मंत्री जीतू पटवारी ने आईटीएम विश्व विद्यालय की तारीफ करते हुए कहा कि मुझे विश्वास है कि बच्चों का भविष्य यहाँ सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि मैं मानता हूँ कि प्रदेश को यदि शिक्षा के क्षेत्र में बहुत ऊपर ले जाना है तो हम प्राइवेट भागीदारी के बिना संभव नहीं है । उन्होंने डिग्री प्राप्त करने वाले युवाओं को भविष्य के लिए शुभकामनायें दी और कहा कि  आपको काबिल बनने की जरूरत है क्योंकि अब आप लोग एक बड़ी और विस्तृत दुनिया में जा रहे हो। लेकिन याद रखना यहां आपको गांधी के विचार ही काम में आएंगे क्योंकि ये हमें आपस में भेदभाव नहीं करना सिखाते है,गांधी के विचार हमें आपस में प्रेम और सहयोग करना सिखाते हैं लेकिन आज कुछ लोग हैं हमारे देश में जो इस विचार को ख़त्म कर देना चाहते हैं। लेकिन आपको गांधी के विचार के विरोधियों के खिलाफ खड़े रहना है। कार्यक्रम में RGPV के कुलपति डॉ सुनील गुप्ता , प्राइवेट विश्वविद्यालय नियामक आयोग के चेयरमेन स्वराजपुरी, प्रसिद्ध कवि और लेखक उदयन वाजपेयी, आईटीएम विश्वविद्यालय के फाउंडर चांसलर रमाशंकर सिंह, चांसलर रुचि सिंह चौहान, प्रो चांसलर दौलत सिंह चौहान, कुलपति प्रो केके द्विवेदी, कुलसचिव डॉ ओमवीर सिंह सहित फेकल्टी मेंबर और स्टाफ के सदस्य मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here