Hoarding Politics: एक बार फिर अपने ही घर में भाजपा के होर्डिंग्स से गायब “महाराज”

ग्वालियर/अतुल सक्सेना

प्रदेश में राजनीतिक दल उप चुनावों की तैयारी में लगे हैं। ग्वालियर आकर कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोलने वाले पूर्व मंत्री जयंत मलैया (jayant malaiya) और गौरी शंकर बिसेन (gauri shankar bisen) ग्वालियर में सबकुछ ठीक होने और बीजेपी (bjp) की जीत के दावे कर चुके हैं लेकिन आज जो कुछ सामने आया उसने मंत्रियों के दावों की पोल खोल दी। शहर में भाजपा नेताओं ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (narendra singh tomar) के जन्म दिन की शुभकामनाओं के होर्डिंग बैनर लगाए हैं जिसपर एक बार फिर सिंधिया (scindia) का फोटो गायब है, जिसे लेकर राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस का कहना है कि भाजपा का जमीनी नेता -कार्यकर्ता सिंधिया को स्वीकार ही नहीं कर पा रहा है।

एक समय था जब ग्वालियर-चंबल अंचल (gwalior-chambal) सहित पूरे प्रदेश में पार्टी का कोई बैनर होर्डिंग (hoarding) लगता था तो उसमें अन्य नेताओं के साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) का फोटो अवश्य होता था। किसी कार्यकर्ता या नेता में इतनी हिम्मत नहीं थी कि वो पोस्टर से सिंधिया का फोटो हटा सके। लेकिन जबसे सिंधिया भाजपा में आये हैं तब से उन्हें भाजपा के पोस्टर बैनर में जगह नहीं मिल रही है। पिछले लगभग एक महीने में तीसरा ऐसा मौका है जब प्रदेश में भाजपा के होर्डिंग बैनर (hoarding) में सिंधिया की फोटो नहीं है। खास बात तो ये है कि सिंधिया के गढ़ और घर में ही दो बार ऐसा हो चुका है। दो दिन पहले इंदौर में भाजपा नेताओं ने तुलसी सिलावट (tulsi silawat) के होर्डिंग लगाए थे, इसमें भाजपा नेताओं के फोटो तो थे लेकिन सिंधिया का फोटो गायब था। इससे पहले ग्वालियर में मोदी सरकार (mpdi) के दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर अखबारों में छपे विज्ञापनों में भी भाजपा नेताओं के फोटो थे लेकिन सिंधिया का फोटो नहीं था और आज फिर शहर में लगे होर्डिंग बैनर से सिंधिया का फोटो गायब है।

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह के जन्मदिन के होर्डिंग बैनर से पटा पड़ा है शहर

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (narendra singh tomar) का जन्म दिन 12 जून को है। इसे लेकर पार्टी और कार्यकर्ताओं में उत्साह है। शहर को होर्डिंग, बैनर पोस्टरों से पाट दिया गया है। लेकिन इसमें खास बात ये है कि अधिकांश होर्डिंग बैनर से सिंधिया की फोटो गायब है। शहर में दो तरह के होर्डिंग बैनर हैं। कुछ पार्टी ने लगाए हैं तो कुछ समर्थकों ने। पार्टी के होर्डिंग बैनर में केवल नरेंद्र सिंह तोमर का फोटो है और शुभकामना संदेश है जबकि कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए अधिकांश होर्डिंग बैनरों में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के फोटो के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के फोटो हैं। इतना ही नहीं इनपर केंद्रीय मंत्री तोमर के दोनों बेटों के भी फोटो हैं लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया का फोटो गायब है। जिसे लेकर शहर में तरह तरह की चर्चाएं शुरू हो गई है।

कांग्रेस ने ली चुटकी, स्वीकार्यता को लेकर उठाये सवाल

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के जन्म दिन के होर्डिंग बैनर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया के फोटो नहीं होने पर कांग्रेस मजे ले रही है। कांग्रेस (congress) ने चुटकी लेते हुए कहा कि इससे भाजपा की कथनी और करनी उजागर होती है। युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव संजय सिंह यादव ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से कहा कि भाजपा का चाल चरित्र और चेहरा ही ऐसा है। ये दूसरे दलों से प्रलोभन देकर नेताओं को अपनी पार्टी में लाते हैं और फिर उसके साथ दोहरी नीति अपनाते हैं। संजय यादव ने कहा कि महाराज की नगरी के नाम से पहचाने जाने वाले ग्वालियर में ही आज होर्डिंग बैनर से सिंधिया का फोटो गायब है। ये बताता है कि भाजपा का जमीनी कार्यकर्ता उन्हें अपनी पार्टी में स्वीकार नहीं कर रहा। जल्दी ही सिंधिया जी को समझ आ जायेगा कि उन्होंने कितनी बड़ी भूल की है। यादव ने कहा कि उपचुनावों में इसका असर देखने को मिलेगा और कांग्रेस को सभी सीटों पर जीत मिलेगी।

सिंधिया समर्थकों ने साधी चुप्पी, भाजपा ने मानी चूक

होर्डिंग बैनर से सिंधिया के फोटो गायब होने के सवाल पर सिंधिया समर्थक निराश और दुखी हैं और उन्होंने चुप्पी साध ली है। पूर्व कैबिनेट मंत्री और कट्टर सिंधिया समर्थक नेता प्रद्युम्न सिंह तोमर ने बस इतना कहा कि महाराज श्रीमंत सिंधिया बहुत विशाल व्यक्तित्व हैं वो किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। उधर भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी ने सफाई देते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह जी के जन्म दिन पर बहुत कार्यकर्ताओं ने होर्डिंग बैनर लगाए हैं। पार्टी के अधिकृत होर्डिंग बैनर पर सिर्फ केंद्रीय मंत्री तोमर की ही फोटो है । उन्होंने कहा कि मुझे भी कुछ ऐसे होर्डिंग बैनर के बारे में मालूम पड़ा है जिसमें सिंधिया जी की फोटो नहीं है। जिला अध्यक्ष ने कहा कि मैं खुद इन कार्यकर्ताओं से बात करूँगा सिंधिया जी हमारे लिए सम्मानित नेता है। उनके मान सम्मान का पूरा ध्यान रखा जायेगा । ये चूक है और भविष्य में इसे दोहराने नहीं दिया जायेगा।

गौरतलब है कि पूर्व मंत्री जयंत मलैया और गौरी शंकर बिसेन ने पिछले दिनों यहाँ तीन दिन रहकर कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोली थी और दावा किया था की ग्वालियर में सबकुछ ठीक है। कांग्रेस से आये सभी साथी और हमारी पार्टी के कार्यकर्ता एक साथ मिलकर पूरे उत्साह के साथ लगे हैं लेकिन आज शहर में लगे होर्डिंग बैनरों ने पूर्व मंत्रियों के दावों पर सवाल खड़े कर दिए हैं।