खबर का असर : मरीजों को मिली खराब खाने से निजात, थाली में आई खीर और छोले की सब्जी

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। खबरों को प्रमाणिकता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने वाली एपी ब्रेकिंग न्यूज़ की खबर का एक बार फिर असर हुआ है। खबर के बाद क्वारेंटाइन सेंटर में भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों को अब उनकी सेहत बिगाड़ रहे खराब और बेस्वाद खाने से निजात मिल गई है। उन्हें थाली में ना सिर्फ छोले की सब्जी दी गई बल्कि सिमई की खीर परोसी गई। मरीजों ने इसके लिए एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ को धन्यवाद दिया है।

प्रदेश की जनता की आवाज बन चुकी और उनकी हर छोटी बड़ी समस्या में उनके साथ खड़ी रहने वाली एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ ने एक बार फिर अपना पत्रकारिता धर्म निभाया है। हमने 30 अगस्त को एक कोविड क्वारेंटाइन सेंटर में परोसे जा रहे खराब खाने की खबर पाठकों तक पहुंचाई थी। शहर के शासकीय आयुर्वेद हॉस्पिटल में बनाये गए क्वारेंटाइन सेंटर में भर्ती मरीज हिमांचली मिश्रा ने हमें सेंटर में दिये जा रहे खराब खाने की थाली और उसके बहिष्कार की वीडियो बनाकर भेजी थी।

हिमांचली ने आरोप लगाया था कि जिस बटरा की दाल को गाँव वाले जानवर को नहीं खिलाते वो दाल और कद्दू की सब्जी सेंटर में भर्ती मरीजों को दी जा रही है साथ में कच्ची रोटियां खिलाई जा रहीं हैं। जिससे मरीजों को गैस और पेट दर्द की शिकायत हो रही हैं नाराज मरीजों ने रविवार को खाने का बहिष्कार कर उसे डस्टबिन में फेंक दिया अगले दिन फिर यहाँ खाना परोसा गया तो हमने खाना भेजने वाले एमपी टुरिजम के होटल तानसेन में बात की तो उन्होंने बटरा की दाल को तुअर की दाल बताया लेकिन वे ये नहीं बता पाए कि दाल जमी हुई क्यों दी जा रही है और आठ दिन से कद्दू की सब्जी क्यों दी जा रही है।

खबर वायरल होने के बाद उसका असर हुआ और फिर मरीजों को अच्छा खाना भिजवाया गया। इस बार थाली में अच्छी रोटियों के साथ छोले की सब्जी दी गई। इतना ही नहीं सिमई की खीर भी दी गई। अच्छे खाने के बाद हिमांचली मिश्रा और अन्य मरीजों ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ को धन्यवाद दिया है और कहा कि आज ऐसी ही सकारात्मक पत्रकारिता की आवश्यकता है।
खबर प्रकाशित होने से पहले मिलने वाला खाना

खबर का असर : मरीजों को मिली खराब खाने से निजात, थाली में आई खीर और छोले की सब्जी

खबर प्रकाशित होने के बाद मिलने वाला खाना

खबर का असर : मरीजों को मिली खराब खाने से निजात, थाली में आई खीर और छोले की सब्जी