Gwalior में BJP ने जारी किया वचन पत्र, अपनी पिछली उपलब्धियां गिनाईं

सांसद शेजवलकर ने कहा कि मेरी जानकारी के मुताबिक रोप वे के लिए पिछले चयनित स्थानों को लेकर कुछ आपत्तियां थीं इसलिए नए स्थान का चयन किया गया है, जल्दी ही वहां काम शुरू होगा।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने आज ग्वालियर(Gwalior News) में जिला स्तर पर अपना वचन पत्र जारी (BJP manifesto issued in Gwalior) किया। भाजपा ने इसमें अपनी उपलब्धियां गिनाईं। भाजपा ने कहा कि हमने पिछले अपने कार्यकाल में ग्वालियर को व्यवस्थित और सुविधायुक्त बनाया है और आगे इसमें और वृद्धि करेंगे।

भारतीय जनता पार्टी(BJP Madhya Pradesh) ने आज एक निजी होटल में अपना वचन पत्र जारी किया। वचन पत्र में पार्टी ने अपनी सरकार की उपलब्धियों की जानकारी दी हैं।  पार्टी ने ग्वालियर नगर निगम में अपने 57 साल की नगर सरकार की उपलब्धियों को भी बताया है।

ये भी पढ़ें – MP : कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, लगेगा झटका, सरकारी छुट्टी नहीं, इस दिन भी खुलेंगे दफ्तर

वचन पत्र में रोप वे जैसी पुरानी योजना से हटाने के सवाल पर सांसद विवेक शेजवलकर ने कहा कि योजना का काम जारी है। मेरी जानकारी के मुताबिक रोप वे के लिए पिछले चयनित स्थानों को लेकर कुछ आपत्तियां थीं इसलिए नए स्थान का चयन किया गया है, जल्दी ही वहां काम शुरू होगा।

ये भी पढ़ें – SSC 2022: उम्मीदवारों के लिए नई अपडेट, 5 से शुरू होगी ये परीक्षा, 7300 पदों पर होगी भर्ती, जानें नियम-परीक्षा पैटर्न

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर अटल स्मारक बनाने की घोषणा के बावजूद उसकी शुरुआत नहीं होने के सवाल पर सांसद शेजवलकर ने कहा कि दो तीन स्थानों का चयन किया गया है जल्दी ही एक स्थान को अंतिम रूप देकर अटल स्मारक बनेगा।

ये भी पढ़ें – MP नगर निकाय चुनाव: त्रिकोणीय मुकाबले में AIMIM सुप्रीमो की एंट्री से मची हलचल, ओवैसी की आमसभा आज

ग्वालियर में भाजपा की नगर निगम  पिछले 57 सालों में कुछ नहीं होने के सवाल का जवाब देते हुए सांसद शेजवलकर ने पानी के उदाहरण देते हुए कहा कि 2004 में  ग्वालियर में 140 मिलियन लीटर पानी प्रोसेस होता था जो बढ़कर आज 340 हो  इसीतरह सड़कों का जाल बिछा है सीवर लाइन बढ़ी है।

Gwalior में BJP ने जारी किया वचन पत्र, अपनी पिछली उपलब्धियां गिनाईं

सम्पत्तिकरण का सरलीकरण कैसे करेंगे? इस सवाल का जवाब देते हुए सांसद विवेक शेजवलकर ने कहा कि संपत्ति कर का निर्धारण नगर निगम और प्रदेश सरकार करती है , हम प्रयास करेंगे कि इसकी एक तय व्यवस्था हो एक नीति बने उस हिसाब से सम्पत्तिकर का निर्धारण हो।