कमलनाथ और सिंधिया 30 नवम्बर को होंगे शहर में लेकिन नहीं होगी मुलाक़ात

ग्वालियर। मुख्यमंत्री कमलनाथ  और कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच बढ़ती दूरियों की ख़बरों के बीच पिछले दिनों सिंधिया के ट्विटर हेंडल पर बायो बदलने के बाद और बल मिला। लेकिन ग्वालियर में ये प्रमाणित भी होने जा रहा है। हालांकि कोई इसे एक इत्तफाक कह सकता है लेकिन जो सामने दिख रहा है उसे झुठलाया नहीं जा सकता।

दरअसल मुख्यमंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया  यानि 30 नवम्बर ग्वालियर शहर में होंगे लेकिन इनकी मुलाक़ात नहीं होगी। दोनों को मुरैना में एक शादी समारोह में शामिल होना है लेकिन दोनों अलग अलग समय पर इसमें शामिल होंगे। राजनैतिक पंडित इसे सिंधिया की कमलनाथ से बनाई गई दूरी के रूप में देख रहे हैं। दोनों नेताओं के घोषित कार्यक्रमों के अनुसार 30 नवम्बर को मुख्यमंत्री कमलनाथ भोपाल से 12:15 बजे रवाना होकर  ग्वालियर हवाई अड्डे पर 12:45 बजे पहुंचेंगे जबकि इसी दिन ज्योतिरादित्य सिंधिया शताब्दी एक्सप्रेस से ग्वालियर आयेंगे और दोपहर 1 बजे तक रहेंगे । सिंधिया इसके बाद पूर्व विधायक मदन कुशवाह के घर से नरवर के लिए निकल जायेंगे जबकि मुख्यमंत्री कमलनाथ 1 बजे हेलीकाप्टर से मुरैना जायेंगे। और वहां वे विधायक बनवारी लाल शर्मा के घर शादी में शामिल होंगे। और दो बजे लौटकर ग्वालियर हवाई अड्डे से भोपाल लौट जायेंगे। उधर सिंधिया शाम को 4:15 बजे नरवर से चलकर 7 बजे मुरैना पहुंचेंगे और बनवारी लाल शर्मा के घर शादी में शामिल होंगे और वहीँ से शताब्दी से दिल्ली चले जायेंगे। खास बात ये है कि ग्वालियर के व्यापारी इस बात की उम्मीद लगाए बैठे थे कि ग्वालियर व्यापार मेले में वाहनों की बिक्री पर टैक्स में 50 प्रतिशत छूट का प्रस्ताव कैबिनेट में नहीं रखे जाने के बाद सिंधिया मुख्यमंत्री कमलनाथ से इसपर चर्चा करेंगे लेकिन व्यापारी को इसबार भी झटका लगा है। बहरहाल प्रदेश के दोनों बड़े नेताओं के एक ही दिन एक ही समय पर मौजूदगी के दौरान मुलाक़ात नहीं करने पर इनके बीच बढ़ती दूरियों की चर्चा को और ताकत मिल रही है।