ग्वालियर। जयारोग्य अस्पताल में भर्ती एक विवाहिता की इलाज के दौरान मौत हो गई। सूचना पर पहुंचे मृतका के पिता ने ससुराल पक्ष के लोगों पर उनकी बेटी की दहेज के लिए हत्या करने के आरोप लगाए। 

किला गेट निवासी शैलेंद्र घनघोरिया के मुताबिक उन्होंने अपनी बेटी पल्लवी का विवाह  3 साल पहले गुढ़ा  निवासी योगेश खटीक के साथ किया था। योगेश पोस्ट ऑफिस में शासकीय सेवक है। उन्होंने बताया कि शादी के समय ससुराल पक्ष की मांग के हिसाब से 20 लाख रुपया नगद और एक स्विफ्ट डिजायर गाड़ी दी थी। लेकिन दामाद और उसके परिवार वालों की दहेज की मांग बढ़ती रही। जिसके चलते शादी के बाद से ही पल्लवी को कभी उन्होंने मायके नहीं भेजा। उन्होंने बताया कि आज सूचना मिली कि पल्लवी की मौत हो गई है। जब वे अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि पल्लवी को कल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन इसकी सूचना उन्हें नहीं दी गई।  शैलेन्द्र घनघोरिया ने आरोप लगाया कि दहेज के लिए ससुरालियों ने उनकी बेटी को मार डाला  । पल्लवी की मौत से गुस्साए  मायके वालों ने जयारोग्य अस्पताल में हंगामा भी किया। परिजनों  ने ये  भी आरोप लगाए कि पल्लवी की मौत होते ही ससुराल के लोग अस्पताल में शव छोड़कर भाग गए। सूचना मिलने पर  थाना माधवगंज पुलिस  अस्पताल पहुंची और पल्लवी के मायके वालों को समझाइश दी और भरोसा दिया कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई  की जाएगी। हंगामा शांत कराने के बाद  पुलिस ने पल्लवी के शव का पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।