दरियादिली: अस्पताल में मौत के लिए परेशान आदिवासी की मदद के लिए आधी रात को पहुंचे मंत्री

ग्वालियर। ग्वालियर विधायक और प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर स्वयं को नेता नहीं जन सेवक कहते हैं । समय समय पर उनके इस दावे के प्रमाण भी मिलते रहते हैं। ताजा मामला जयारोग्य अस्पताल का है जहाँ मंत्री आधी रात को एक आदिवासी परिवार की मदद के लिए पहुंच गए। और तब तक वहां से नहीं गए जब तक मृत महिला के शव को ले जाने का इंतजाम नहीं हुआ।

दरअसल प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री और शिवपुरी जिले के प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को बुधवार को करीब पौने ग्यारह बजे सूचना मिली कि शिवपुरी जिले का एक आदिवासी परिवार जयारोग्य अस्पताल के बाहर परेशान है । परिवार का मुखिया और परेशान है उसकी पत्नी मीना की मौत हो गई है। । सूचना मिलते ही मंत्री तोमर घर से उठे और अस्पताल पहुंच गए। उन्होंने आईसीयू के बाहर देखा की पति पत्नी के शव के पास बदहवास बैठा था। पास ही बैठी उसकी बेटी मां की मौत के कारण बुरी तरह रो रही थी । मंत्री ने पहले उन लोगों के लिए खान मंगवाया और अपने हाथ से खिलाया । जानकारी लेने पर उन्हें पता चला कि महिला का शव करीब दो घंटे तक खुले आसमान के नीचे पड़ा है। गरीब आदिवासी के पास शव ले जाने के पैसे तक नहीं हैं । उन्होंने तत्काल मीना के शव को शिवपुरी ने जाने का इंतजाम कराया और ढांढस बंधाया कि रास्ते में कोई परेशानी हो तो मुझे बताना। मंत्री तोमर ने महिला की अंत्येष्टि के लिए भी अपनी जेब से पैसे दिए।  बताया गया है कि लोमड़ी के काटने घायल मीना आदिवासी को कुछ दिन पहले आईसीयू में भर्ती कराया गया था। मंत्री तोमर ने मौके से ही अस्पताल अधीक्षक डॉ अशोक मिश्रा को फोन कर बुलाया और इस तरह की घटनाओं और गरीबों के लिए इंतजाम करने के निर्देश दिए। गौरतलब है कि दो दिन पहले भी मंत्री तोमर ने उस समय दरियादिली दिखाई थी जब वे गेंडे वाली सड़क पर निरीक्षण पर थे। यहाँ त्रिवेणी बाई नामक महिला को गैस एजेंसी और पेट्रोलियम कम्पनी वाले उज्जवला के कनेक्शन के लिए 6 महीने से चक्कर लगवा रहे थे। तब मंत्री ने गिया एजेंसी पहुंचकर अपने पैसे से उस बुजुर्ग महिला को कनेक्शन दिलवाया था। बहरहाल ये दो घटनाये तो सात दिन के अन्दर की ही है। प्रद्युम्न सिंह तोमर अक्सर ऐसा करते  हैं। यदि प्रद्युम्न सिंह तोमर की तरह ही सभी या कुछ मंत्री विधायक नेता ऐसा करने लगें तो गरीबों की बहुत समस्याएं वैसे ही हल हो जायेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here