ग्वालियर/अतुल सक्सेना

12 की परीक्षा में अव्यवस्थाएँ देखने के बाद परेशान हुए ग्वालियर दक्षिण विधानसभा के कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने गांधी प्रतिमा के नीचे बैठकर शिवराज सरकार को सद्बुद्धि देने की प्रार्थना की। विधायक ने सवाल किया कि क्या मुख्यमंत्री चाहते हैं कि जनता उन्हें भविष्य में कंस या शकुनि मामा के नाम से याद रखे।

कोरोना महामारी में छात्रों जो जनरल प्रमोशन देने की मांग करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जो दो बार पत्र लिख चुके ग्वालियर दक्षिण विधानसभा के कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने मुख्यमंत्री की हठधर्मिता के बाद मंगलवार को गांधी जी की प्रतिमा के नीचे बैठकर धरना दिया। इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए कांग्रेस विधायक ने कहा कि पूरे मध्यप्रदेश के परीक्षा केंद्रों पर बच्चों को भेड़ बकरियों की तरह भरकर परीक्षा दिलवाई गई, जिसे देखकर और सुनकर ही मेरा मन कांप गया। लेकिन मुख्यमंत्री जी पर इसका कोई असर नहीं हुआ। विधायक ने कहा कि बच्चों को सरकार कोरोना की टेस्टिंग किट की तरह क्यों इस्तेमाल कर रही है। माता पिता सहमे हुए हैं, बच्चे जान हथेली पर लेकर परीक्षा देने जा रहे हैं। यदि बच्चों को जनरल प्रमोशन देने में कोई तकनीकी परेशानी है तो व्यवस्थाएँ प्रॉपर की जाये।

कांग्रेस विधायक ने कहा कि खुद को मामा कहलाने वाले शिवराज सिंह चौहान को सिर्फ चुनाव के समय ही भांजे भांजियों की याद आती है। क्या वे वास्तव में कंस मामा का स्वरूप हैं जो अपने भांजे भांजियों का ध्यान नहीं रख पा रहे हैं। क्या इतिहास एक बार फिर कंस और शकुनि मामा को दोहरा रहा है। क्या शिवराज जी चाहते हैं कि जनता उन्हें कंस या शकुनि मामा के रूप में याद रखे।