MP Election 2023 : कब होगा डाक मतपत्र निरस्त, किस प्रकार होगी EVM के वोटों की गिनती, मतगणना एजेंट्स को प्रशिक्षण में बताई गईं बारीकियां

Atul Saxena
Updated on -
MP Election 2023 Gwalior News

MP Election 2023 : 3 दिसंबर को होने वाली मतगणना के लिए ग्वालियर जिला प्रशासन ने मतगणना एजेंट्स को आज शुक्रवार को प्रशिक्षण दिया , जिला निर्वाचन अधिकारी अक्षय कुमार सिंह सहित अन्य विशेषज्ञों ने प्रत्याशियों के मतगणना एजेंट्स को गणना संबंधी बारीकियां बताईं, उन्हें समझाया गया कि किस स्थिति में डाक मतपत्र निरस्त होगा, कैसे ईवीएम में डाले गए वोटों की गिनती की जाएगी। वीवीपैट से पर्चियों की गणना सबसे अंत में की जायेगी। यदि कंट्रोल यूनिट व वीवीपैट की पर्चियों की गणना में अंतर आता है तो वीवीपैट की गणना को सही माना जायेगा।

ग्वालियर जिला प्रशासन ने अटल सभागार में ग्वालियर जिले के सभी 6 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के प्रत्याशियों के मतगणना एजेंटों को प्रशिक्षण दिया गया , उन्हें मतगणना के संबंध में भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की  विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई। प्रशिक्षण के दौरान गणना अभिकर्ताओं की शंकाओं का समाधान भी किया गया। आपको बता दें कि ग्वालियर जिले के सभी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की मतगणना 3 दिसंबर को एमएलबी कॉलेज में होगी।

शुक्रवार को ग्वालियर के जीवाजी विश्वविद्यालय के अटल सभागार में मतगणना अभिकर्ताओं (मतगणना एजेंट) को प्रशिक्षित किया गया। प्रशिक्षण के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश चंदेल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं मतगणना व्यवस्था अधिकारी विवेक कुमार, विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों के रिटर्निंग अधिकारी एवं राज्य स्तरीय मास्टर ट्रेनर एस बी ओझा मौजूद रहे।

सबसे पहले डाक मत पत्रों की गिनती शुरू होगी

प्रशिक्षण में जानकारी दी गई कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के तहत 3 दिसंबर को सुबह 8 बजे सबसे पहले डाक मत पत्रों एवं सेवा मतदाताओं द्वारा भेजे गए मतों की गिनती शुरू होगी। इसके आधा घंटे बाद ईवीएम (इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन) के वोटों की गिनती शुरू होगी। फिर दोनों प्रकार के मतों की गिनती समानान्तर रूप से जारी रह सकेगी।

डाक मत पत्र अस्वीकृत होने के कारण बताए

राज्य स्तरीय मास्टर ट्रेनर एस बी ओझा ने डाक मत पत्र निरस्त होने से संबंधित कारणों के बारे में विस्तारपूर्वक जानकरी देते हुए बताया कि किसी को मत नहीं दिया गया हो, एक से अधिक उम्मीदवारों को मत दिया हो, मत पत्र नकली अथवा विकृत हो व मत पत्र निर्धारित लिफाफे में नहीं हो तो डाक मत पत्र निरस्त माना जायेगा। साथ ही यदि निर्वाचक की पहचान स्थापित हो रही हो, घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर न हों, घोषणा पत्र प्रमाणित न हो, घोषणा पत्र नहीं हो इत्यादि कारणों से भी डाक मत पत्र अस्वीकृत माना जायेगा। घोषणा पर अंकित डाक मत पत्र क्रमांक एवं मत पत्र के लिफाफे पर अंकित मत पत्र क्रमांक में भिन्नता होने पर भी डाक मत पत्र अस्वीकृत माना जायेगा।

इन परिस्थितियों में डाक मत पत्र मान्य होगा

प्रशिक्षण में बताया गया कि कोई भी मतांकन (वोट) का चिन्ह होने पर डाक मत पत्र मान्य होगा। साथ ही चिन्ह से स्पष्ट हो कि वह किसे मत देना चाहता है। प्रत्याशी के नियत स्थान पर कहीं भी मतांकन किया हो। एक ही प्रत्याशी के नियत स्थान पर एक से अधिक बार मतांकन किया हो एवं मतांकन का चिन्ह स्पष्ट हो। तो भी डाक मत पत्र मान्य किया जायेगा।

इन स्थितियों में होगी वीवीपैट की पर्चियों की गिनती

प्रशिक्षण में यह भी बताया गया कि हर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में किन्ही पाँच मतदान केन्द्र के वीवीपैट की पर्चियों की गिनती रेण्डम रूप से अनिवार्यत: की जायेगी। यदि बैटरी बदलने के बाबजूद ईवीएम (कंट्रोल यूनिट) पर डिस्प्ले दिखाई नहीं देता है तो उस ईवीएम के वीवीपैट की पर्चियों की गिनती होगी। इसी तरह यदि किसी मतदान केन्द्र पर मॉक पोल के बाद वोटों को क्लीयर न कर वास्तविक मतदान प्रारंभ कर दिया होगा तो ऐसी स्थिति में भी वीवीपैट की पर्चियों की गणना उस स्थिति में होगी, जब जीत का अंतर उस मतदान केन्द्र पर डाले गए मतों से कम हो। इसके अलावा यदि अभ्यर्थी द्वारा किसी मतदान केन्द्र के वीवीपैट की पर्चियाँ गिनने की मांग की जाती है तो मांग जायज होने पर संबंधित रिटर्निंग अधिकारी निर्णय लेंगे

एमएलबी कॉलेज के इन कक्षों में होगी मतगणना

जिले के सभी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में डाले गए मतों की गिनती 3 दिसंबर को सुबह 8 बजे से एमएलबी कॉलेज में होगी। विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 14-ग्वालियर ग्रामीण के मतों की गिनती एमएलबी कॉलेज में प्रथम तल पर स्थित कमरा नं. 203 व 204 में की जायेगी। इसी तरह विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 15-ग्वालियर की प्रथम पर कमरा नं. 201 व 202 में होगी।
इसी तरह विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 16-ग्वालियर पूर्व की मतगणना भू-तल पर स्थित कमरा नं. 101 व 102, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 17-ग्वालियर दक्षिण के मतों की गिनती भू-तल पर स्थित कमरा नं. 24 व 25 में होगी।

मतगणना परिसर में प्रवेश व्यवस्था, अलग-अलग रंग के होंगे प्रवेश पत्र

मतगणना परिसर में अधिकृत प्रवेश पत्र के आधार पर ही प्रवेश की अनुमति मिलेगी। हर विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशियों व उनके अभिकर्ताओं को संबंधित रिटर्निंग अधिकारियों द्वारा प्रवेश पत्र जारी किए जायेंगे। हर विधानसभा क्षेत्र के प्रवेश पत्र के रंग अलग-अलग होंगे।

ऐसी रहेगी एमएलबी कॉलेज में प्रवेश की व्यवस्था 

मतगणना दिवस यानि 3 दिसंबर को कटोराताल की ओर वाले प्रवेश द्वार से विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र ग्वालियर ग्रामीण, ग्वालियर पूर्व, भितरवार एवं विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र डबरा (अजा) के प्रत्याशी एवं उनके अभिकर्ताओं को प्रवेश दिया जायेगा । विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र ग्वालियर व ग्वालियर दक्षिण के प्रत्याशी व उनके अभिकर्ता अचलेश्वर मंदिर की ओर वाले प्रवेश द्वार से प्रवेश कर संबंधित मतगणना कक्ष में पहुँच सकेंगे। मतगणना के लिये तैनात किए गए अधिकारी एवं कर्मचारी भी अचलेश्वर मंदिर वाले प्रवेश द्वार से मतगणना परिसर में प्रवेश कर सकेंगे। इसी प्रवेश द्वार से मीडिया प्रतिनिधिगण मतगणना परिसर में पहुँच सकेंगे।

मोबाइल फोन, कैलकुलेटर बीड़ी, सिगरेट, तम्बाकू इत्यादि प्रतिबंधित रहेंगे

मतगणना परिसर में मोबाइल फोन, कैलकुलेटर, बीड़ी, सिगरेट, माचिस, तम्बाकू व खाद्य पदार्थ प्रतिबंधित रहेंगे। दोनों प्रवेश द्वारों पर व्यक्तिश: इसकी सघन जाँच की जायेगी। सभी अभिकर्ताओं से कहा गया कि वे गणना के दिन उक्त सामग्री लेकर न आएं।

कलेक्टर के निर्देश, नियमों के उल्लंघन पर होगी कार्रवाई 

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अक्षय कुमार सिंह ने मतगणना अभिकर्ताओं से कहा कि सभी मतगणना अभिकर्ता मतगणना हॉल के अंदर अपने निर्धारित स्थान पर बैठें और आयोग के निर्देशों का पालन करें। निर्देशों की अवहेलना पर लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने स्पष्ट किया कि मतगणना के संबंध में अंतिम निर्णय रिटर्निंग ऑफीसर और निर्वाचन प्रेक्षक का रहेगा।

पुलिस रहेगी चौकन्नी, होगी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश चंदेल ने कहा कि मतगणना दिवस को एमएलबी कॉलेज एवं उसके आस-पास कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। वैध पासधारियों को ही मतगणना परिसर में प्रवेश दिया जायेगा। सभी प्रवेश द्वारों पर सभी की बारीकी से जाँच की जायेगी। उन्होंने कहा गणना एजेंट भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों का पालन करें और कोई भी प्रतिबंधित सामग्री साथ में लेकर न आएँ।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News