Gwalior में 100 टन गोबर से बनाया MP का सबसे बड़ा गोवर्धन पर्वत, गौसेवकों ने की पूजा

नगर निगम कमिश्नर किशोर कन्याल सहित, साधु, संत, गौसेवक और स्थानीय शहरवासियों ने लाल टिपारा गौशाला पहुंचकर गोवर्धन पर्वत (Govardhan Puja 2022) की पूजा की और सुख समृद्धि की कामना की। 

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। एमपी की सबसे बड़ी गौशाला में आज 100 टन गोबर से एमपी का सबसे बड़ा गोवर्धन पर्वत (MP’s largest Govardhan Parvat made from 100 tonnes of cow dung in Gwalior) बनाकर उसकी पूजा की गई।  ग्वालियर नगर निगम द्वारा संचालित आदर्श गौशाला में कमिश्नर किशोर कन्याल सहित साधु, संतों और गौ सेवकों ने गोवर्धन पर्वत की पूजा (Govardhan Puja in Gwalior) की।

ग्वालियर के लाल टिपारा क्षेत्र में मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी गौशाला है जिसे नगर निगम संचालित करता है, व्यवस्थाएं साधु संत देखते हैं, इसे आदर्श गौशाला कहते हैं। इसमें 10,000 से अधिक गौवंश के रखने की व्यवस्था है। आज यहाँ गौशाला के 100 टन गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाया गया।

ये भी पढ़ें – MP Goverdhan Puja : सीएम शिवराज हुए शामिल, बोले – भगवान श्री कृष्ण ने गोवर्धन पूजा के माध्यम से प्रकृति संरक्षण का संदेश दिया है

सभी जानते हैं कि भगवान श्रीकृष्ण ने कैसे गोवर्धन पर्वत उठाकर ग्रामीणों की रक्षा की थी, उसी कहानी को ध्यान में रखते हुए 100 टन गोबर से 20 फीट ऊंचाई का गोवर्धन पर्वत आदर्श गौशाला में बनाया गया  और उसपर भगवान् श्रीकृष्ण की उंगली पर गोवर्धन पर्वत उठाती मूर्ति स्थापित की गई।

ये भी पढ़ें – जमीन पर लेटे मन्नतधारियों के ऊपर से गुजरी सैकड़ों गायें, मनाया गया गाय गौहरी का पर्व

नगर निगम कमिश्नर किशोर कन्याल सहित, साधु, संत, गौसेवक और स्थानीय शहरवासियों ने लाल टिपारा गौशाला पहुंचकर गोवर्धन पर्वत (Govardhan Puja 2022) की पूजा की और सुख समृद्धि की कामना की।