dabra hospital

डबरा/सलिल श्रीवास्तव| महामारी के रूप में फैले कोरोना वायरस संक्रमण (Corona Virus) से लोगों को बचाने के लिए प्रशासन द्वारा जहां हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं| वही भितरवार स्वास्थ्य विभाग (Health Department) की लापरवाही के चलते कोरोना संक्रमण का खतरा बना हुआ है। सामुदायिक अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड में भर्ती प्रसूता के कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) होने के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया।

प्रसूता के पॉजिटिव होने के बाद से वार्ड में भर्ती नवजात शिशुओं के संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है। हालांकि महिला के पॉजिटिव आने खबर लगते ही खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. यशवंत शर्मा ने पॉजिटिव आई महिला और नवजात बच्चे को होम क्वारेंटाइन करा दिया है।

जानकारी के अनुसार ग्राम ईटमां निवासी प्रसूता भावना को विगत दिवस डिलीवरी के लिए सामुदायिक अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड में भर्ती कराया गया था। जहां प्रसूता ने बेटी को जन्म दिया। डिलीवरी के बाद प्रसूता को वार्ड में अन्य प्रसूताओं के साथ भर्ती करा दिया। सोमवार को सुबह प्रसूता की एंटी रैपिड किट से कोरोना संक्रमण की जांच की और जांच में प्रसूता की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली। प्रसूता के पॉजिटिव आने के बाद से अस्पताल में हड़कंप मच गया। बताया है कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही के चलते पॉजिटिव आई महिला को शिफ्ट नहीं कराया गया। पॉजिटिव महिला के वार्ड में भर्ती होने से वार्ड में भर्ती अन्य प्रसूताओं और नवजात शिशुओं के संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है। अस्पताल में मचे हड़कंप की खबर लगते ही खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. यशवंत शर्मा ने प्रसूता और नवजात शिशु को होम क्वारंटाइन करा दिया है।