पटाखा विस्फोट हादसे की न्यायिक जांच के आदेश, मंत्री ने दी आर्थिक सहायता

ग्वालियर । जिले के चीनौर गांव के नोन की सराय में देर रात हुए पटाखा विस्फोट में मारे गए तीन लोगों के अंतिम संस्कार में स्थानीय विधायक एवं प्रदेश सरकार के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव पहुंचे। घटना पर दुख जताते हुए उन्होंने प्रारंभिक तौर पर मृतकों के परिजनों को 51 -51 हजार और घायलों को 10 -10 हजार रुपए आर्थिक सहायता दी । उधर कलेक्टर ने घटना की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। घटना की एसडीएम जांच करेंगे।

दीपावली पर आतिशबाजी बेचने के लिए अवैध रूप से तैयार हो रहे पटाखों में बीती रात विस्फोट हो गया था। विस्फोट इतना तेज था कि पटाखे बनाने वाले परिवार  के घर की छत उड़ गई और उसके मलबे में परिवार के मुखिया नबी खान ,उसकी बेटी रजिया और नबी के साढू अबरिन की मौत हो गई। वहीँ नबी खान की पत्नी रानी , बेटी निशा, बीटा साहिल ,फरिहन और साली रब्बो गंभीर रूप से घायल हो गए। जिनका जयारोग्य अस्पताल में इलाज जारी है।  हादसे की जानकारी लगते ही स्थानीय विधायक एवं प्रदेश के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव मृतकों के घर पहुंचे और उनके अंतिम संस्कार  में शामिल हुए।  हादसे पर दुःख जताते हुए मंत्री यादव ने कहा कि घटना हृदय विदारक है ।दुख की इस घड़ी में मैं और मेरी सरकार इस परिवार के साथ है।  प्रारंभिक मदद के तौर पर मृतकों के परिजनों को 51- 51 हजार और घायलों को 10- 10 हजार की आर्थिक सहायता तत्काल दी गई है साथ ही तीनों मृतकों के परिजनों को दो – दो लाख की आर्थिक सहायता देने का प्रस्ताव मुख्यमंत्री को भेजा है । उन्होंने कहा कि जल्द ही मृतक के परिवारों को यह राशि मुहैया कराई जाएगी। मंत्री लाखन सिंह ने जिले के अधिकारियों को निर्देश दिए कि  दीपावली जैसे त्यौहार पर अवैध रूप से आतिशबाजी बनाने और रखने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए जिससे इस प्रकार की घटनाएं दोबारा ना हो सके। 

कलेक्टर ने दिए न्यायिक जांच के आदेश

चीनौर में हुए पटाखा विस्फोट हादसे की कलेक्टर अनुराग चौधरी ने न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं । एसडीएम केके गौर को जांच अधिकारी बनाया गया है।  जांच टीम हादसे की जांच के साथ साथ ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध पटाखा बनाने वाले कारोबारियों की भी जांच करेगी । कलेक्टर ने  गांव के सरपंच और कोटवारों को अवैध पटाखा कारोबार रोकने की जिम्मेदारी दी है  । आदेश में कलेक्टर ने कहा कि यदि कहीं अवैध पटाखे बनते पाए गए तो सरपंच और कोटवार जिम्मेदार होंगे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here