ग्वालियर: प्लाज्मा की कालाबाजारी, JAH का वार्ड बॉय गिरफ्तार, 20 हजार में करते थे सौदा

एसपी ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में आरोपियों ने अभी तक 10 मरीजों के लिए प्लाज्मा बेचना स्वीकार किया है। इनको रिमांड पर लिया जा रहा है । संभावना है कि इनके साथ कुछ और लोग भी जुड़े हो सकते हैं।

ग्वालियर

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। कोरोना काल में अब प्लाज्मा के दलाल भी सक्रिय हो गए हैं। ग्वालियर (Gwalior) पुलिस ने दो ऐसे युवकों को पकड़ा है जो नकली दस्तावेज बनाकर मरीजों के परिजनों को प्लाज्मा बेच रहे थे। खास बात ये है कि प्लाज्मा की दलाली सबसे बड़े सरकारी अस्पताल JAH का वार्ड बॉय एक अन्य युवक के साथ कर रहा था। प्लाज्मा का सौदा 20,000 रुपये में कर रहा था। शुरुआती पूछताछ में आरोपियों ने 10 मरीजों को प्लाज्मा बेचना स्वीकार किया है।

यह भी पढ़े.. मप्र में 5 लाख के पार संक्रमितों का आंकड़ा, 13417 नए केस, 98 ने हारी जिंदगी

ग्वालियर पुलिस अधीक्षक (Gwalior SP) अमित सांघी ने पत्रकारों को बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ लोग JAH के ब्लड बैंक से प्लाज्मा निकालकर इसकी कालाबाजारी कर रहे हैं। पुलिस ने झांसी रोड थाना पुलिस को प्लाज्मा दलालों को पकड़ने की जिम्मेदारी दी। टी आई मिर्जा आसिफ बेग ने गिरोह को पकड़ने के लिए जाल बिछाया। टी आई ने एजेंट का नंबर पता लगाकर प्लाज्मा की डिमांड की । सौदा 20,000 रुपये में तय हुआ।

एजेंट ने कहा कि मांडरे की माता के पास एक युवक आयेगा वो प्लाज्मा देगा उसे पैसे दे देना। एजेंट ने प्लाज्मा के लिए डॉक्टर का पर्चा बि मांगा। एजेंट द्वारा बताये स्थान पर तय समय पर जैसे ही एक युवक आया तो पुलिस ने उसे पकड़ लिया। पकड़े गए युवक ने बताया कि वो ग्वालियर JAH में वार्ड बॉय है। उसके पास से पुलिस ने प्लाज्मा का बैग बरामद किया। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी की निशानदेही पर फर एजेंट को भी पकड़ लिया।

यह भी पढ़े.. इन जिलों पर विशेष फोकस, सीएम शिवराज सिंह बोले- अधिकारी और प्रभारी मंत्री तेजी से काम करें

पूछताछ में आरोपियों के पास से प्लाज्मा का सर्टिफिकेट भी मिला जो सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में भर्ती मरीज विजिता शाक्य के नाम का था जबकि इस नाम का कोई मरीज सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में भर्ती नहीं था। दरअसल ये लोग संगठित होकर कोरोना काल में जरूरत मंदलोगों को ठग रहे थे और मरीज के नाम के नकली दस्तावेज बनाकर महंगी कीमत पर बेच रहे थे। एसपी ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में आरोपियों ने अभी तक 10 मरीजों के लिए प्लाज्मा बेचना स्वीकार किया है। इनको रिमांड पर लिया जा रहा है । संभावना है कि इनके साथ कुछ और लोग भी जुड़े हो सकते हैं।