PM मोदी का सपना गांधीगिरी से पूरा कर रहा यह अधिकारी..

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर में एक अधिकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना पूरा करने के लिए गांधीगिरी का तरीका अपना रहे है। इतना ही नहीं, वह जनप्रतिनिधियों से भी के माध्यम से भी जिले के लक्ष्य को पूरा करने में जी-जान से जुटे हुए हैं। नगर निगम ग्वालियर के एडिशनल कमिश्नर मुकुल गुप्ता ने इन दिनों प्रधानमंत्री के सपने को हकीकत का अमलीजामा पहनाने की कमर कस ली है।

MP News : मध्यप्रदेश पर्यटन को मिले तीन अंतर्राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार, लंदन में किया गया सम्मानित

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छोटे गरीब कारोबारी, पथ विक्रेता, फेरी वालों और हाथ ठेले वालों के लिए प्रधानमंत्री स्व निधि योजना बनाई है। इस योजना में गरीब लोगों को व्यापार हेतु बैंक से बिना ब्याज का दस हजार रू का ऋण बिना किसी गारंटी के दिए जाने का प्रावधान है ताकि वे अपना स्वरोजगार प्रारंभ कर सकें। इस ऋण को दिलाए जाने की जिम्मेदारी नगरीय निकायों की है। लेकिन बैंक इन कारोबारियों को ऋण नहीं देते क्योंकि उनको लगता है कि गरीबों को ऋण दिया तो वापस नहीं आएगा। अकेले ग्वालियर नगर निगम में 15,000 से ज्यादा प्रकरण बैंकों को भेजे गए जिनमे अब तक 4500 स्वीकृत हुए हैं। उसके लिए भी एडिशनल कमिश्नर मुकुल गुप्ता को जो तरीका अपनाना पड़ा, वह काबिले तारीफ है। मुकुल गुप्ता के पास यह शिकायत पहुंची कि भारतीय स्टेट बैंक बारादरी शाखा उन लोगों को ऋण देना तो दूर बैंक में भी नहीं घुसने दे रही जो नगर निगम के द्वारा इस योजना के हितग्राही पाए गए थे।

जुआ खेलने के दौरान हुआ विवाद, युवक को पीठ में चाकू मारकर उतारा मौत के घाट

ऐसे में मुकुल गुप्ता ने पूर्व विधायक और बीजेपी के नेता मुन्ना लाल गुप्ता से आग्रह किया और बैंक के सामने गांधीवादी तरीके से धरना देकर बैठ गए। बैंक प्रबंधन को झुकना पड़ा और हितग्राहियों को छोटी दीवाली के दिन ऋण वितरण हो गया। ऐसे ही कुछ दिन पहले बैंक ऑफ बड़ौदा नया बाजार शाखा में मुकुल गुप्ता बैंक मैनेजर के सामने गुलाब के फूल लेकर बैठ गए और उन्हें ऋण देने पर मजबूर करके ही माने। धनतेरस के दिन भी बैंक ऑफ बड़ौदा खेड़ापति शाखा में मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को साथ लेकर मुकुल गुप्ता पहुंचे और गांधीवादी तरीके से 25 लोगों को ऋण स्वीकृत कराया। सचमुच किसी भी गरीब को उसका वाजिब हक दिलाने के लिए यह तरीका अपने आप में बेहद अनूठा है। मुकुल गुप्ता ने अपने सोशल मीडिया पेज पर लिखा है “मेरी दीवाली तो इनकी आंखों में खुशी देखकर ही बन गई।”