कोरोना कर्फ्यू में पुलिस की बर्बरता, विधायक ने एसपी से की कार्रवाई की मांग

डबरा में एसआई ने कोरोना कर्फ्यू के दौरान युवक की इस कदर पिटाई कर दी कि उसे अस्पताल जाना पड़ा। मामले में क्षेत्रीय विधायक ने एसपी से कार्रवाई की मांग की है।

MP News

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। कोरोना संकट में पुलिसकर्मी कर्फ्यू का पालन कराने के लिए दिन-रात ड्यूटी निभा रहे हैं। जिन्हें कोरोना वॉरियर्स का दर्जा दिया गया है। लेकिन बीते कुछ दिनों से पुलिस की बर्बरता भी देखने को मिल रही है। पुलिस के अमानवीय रवैए के वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुई हैं। जहां ग्वालियर के डबरा में कोरोना कर्फ्यू का हवाला देते हुए अग्रसेन चौराहे पर पुलिस ने एक युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी। मामले में क्षेत्रीय विधायक सुरेश राजे ने एसपी अमित सांघी से डबरा थाने में पदस्थ एसआई सुमित सुमन द्वारा की गई मारपीट की शिकायत की है, साथ ही उचित कार्रवाई की मांग भी की।

यह भी पढ़ें:-दतिया : कोरोना की चैन तोड़ने को लेकर कलेक्टर ने नोडल अधिकारियों को दिए जरूरी निर्देश

डबरा के अग्रसेन चौराहे पर ड्यूटी दे रहे डबरा थाने में पदस्थ एसआई सुमित सुमन ने कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने के नाम पर गेहूं लेकर जा रहे युवक रवि तिवारी के साथ बिना बात के बेरहमी से पिटाई कर दी। एसआई ने युवक की पीठ और पैरों में इतने डंडे मारे कि वह चलने में ही असमर्थ हो गया। उसके शरीर पर चोटों के निशान है। बाद में युवक सिविल अस्पताल पहुंचा और मेडिकल कराया। साथ ही डबरा थाना प्रभारी विनायक शुक्ला से भी मामले की शिकायत की। इसके अलावा युवक चंद्रशेखर जाटव जो अपने एटीएम कार्ड बदलवाने के लिए बैंक जा रहा था, उस पर भी एसआई ने डंडे बरसा दिए। बाद में जब लगा कि उसके ज्यादा लग गई है तो उसे एक पुलिसकर्मी के साथ हॉस्पिटल भेज कर उसका इलाज भी करवा दिया।

यह भी पढ़ें:-इस कोविड वार्ड को एक जगह से दूसरी जगह पर किया जा सकता है ट्रांसफर, हर सुविधा होगी उपलब्ध

मामला डबरा विधायक सुरेश राजे के संज्ञान में आया तो वह सबसे पहले रवि तिवारी के घर पहुंचे और उसका हालचाल जाना। साथ ही पुलिस कप्तान अमित सांघी से बात कर मामले की जानकारी दी। विधायक का साफ तौर पर कहना है कि पुलिस का इस तरीके का रवैया बर्दाश्त नहीं किया जाएगा यदि दोषी पुलिसकर्मी पर कार्रवाई नहीं की जाती तो कांग्रेस प्रदर्शन के लिए तैयार है। उनका यह भी कहना है कि यह मामला तो संज्ञान में आ गया ऐसे कई लोग हैं जो पुलिस की लाठियों से पिटने के बाद शांति से अपने घर चले जाते हैं। पुलिस को कोरोना कर्फ्यू का पालन कराना है तो सख्ती के साथ कराये बेरहमी के साथ नहीं।