पीएस ने पकड़ा झोलाछाप डॉक्टर, बोला 12 साल से चला रहा हूँ क्लीनिक

ग्वालियर। जिला प्रशासन द्वारा लगातार झोलाछाप डॉक्टर्स के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश के बावजूद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय को ये दिखाई नहीं देते। लेकिन नगरीय विकास एवं आवास विभाग के प्रमुख सचिव को एक ऐसा झोलाछाप डॉक्टर मिल गया जो 12 साल से फर्जी तरीके से क्लीनिक चला रहा था। पीएस के साथ मौजूद कलेक्टर अनुराग चौधरी ने पुलिस बुलाकर डॉक्टर को थाने भिजवा दिया। 

पीएस संजय दुबे सोमवार को ग्वालियर प्रवास पर थे। उन्होंने नगर विकास की योजनाओं और स्वच्छता से जुड़े कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान जब वे उपनगर ग्वालियर क्षेत्र में थे तभी मेजर कॉलोनी में एक क्लीनिक देखकर वो रुक गए। उन्होंने वहां देखा कि एक नाबालिग बच्ची मरीज का ब्लड प्रेशर ले रही है। पीएस दुबे को शक हुआ तो वे क्लीनिक के अन्दर गए। वहां मौजूद व्यक्ति  रविन्द्र विश्वास मरीजों का इलाज कर रहा था। जब पीएस ने उससे पूछा कि किस पैथी से इलाज करते हो तो वो बोला कि आयुर्वेद से। पीएस ने कहा झूठ बोलते हो दवाएं तो एलोपैथी की रखे हुए हो। इतने में साथ में मौजूद कलेक्टर अनुराग चौधरी ने कहा कि सर ये फर्जी डॉक्टर है ऐसे अभी थाने भिजवाता हूँ। कलेक्टर ने सीएमएचओ डॉ मृदुल सक्सेना को फोन कर फर्जी डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई के लिए कहा। निर्देश मिलते ही हजीरा क्षेत्र के नोडल अधिकारी डॉ सचिन श्रीवास्तव मौके पर पहुंचे और रविन्द्र विश्वास से पूछ ताछ की। डॉक्टर ने कहा कि वो बायोलोजी से बी ए सेकण्ड ईयर फेल है । और 12 साल से फोड़े फुंसी का इलाज कर रहा है। उसने बताया कि पहले वो कोलकाता में एक डॉक्टर के यहाँ कम्पाउंडर था फिर उसने यहाँ क्लीनिक खोली। पीएस ने कलेक्टर को निर्देश दिए कि लोगों की जान से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here