लापरवाही की मिली सजा, मुख्य नगर पालिका अधिकारी निलंबित

निलंबन अवधि के दौरान दिनेश सोनी का कार्यालय मुख्यालय परियोजना अधिकारी जिला शहरी विकास अभिकरण ग्वालियर रहेगा

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। मुख्य नगर पालिका अधिकारी बिलौआ दिनेश सोनी को तत्काल प्रभाव से निलंबित (Suspended) कर दिया गया है। ये कार्रवाई बिलौआ नगर परिषद् के निरीक्षण के दौरान मिली अनियमितताओं के आधार पर की गई है। निलंबन की अवधि में दिनेश सोनी का मुख्यालय परियोजना अधिकारी जिला शहरी विकास अभिकरण ग्वालियर रहेगा।

नगर परिषद् बिलौआ के प्रशासक ने पिछले दिनों निरीक्षण किया था, इस दौरान बिलौआ के प्रभारी मुख्य नगर पालिका अधिकारी (CMO Suspended) दिनेश सोनी ने दो कार्यों की फ़ाइल प्रशासक के सामने प्रस्तुत की। एक फ़ाइल 0.86 लाख रुपये की बिलौआ  कार्यालय भवन की छत की मरम्मत थी और दूसरी 0.99 लाख रुपये की पुताई की थी ,  ये दोनों काम पुराने स्वीकृत थे जो पूरे हो चुके थे।

ये भी पढ़ें – MP : सरकार द्वारा रिक्त पदों पर भर्ती को लेकर की जा रही पहल, कर्मचारी संघ ने की यह मांग

फाइलें सामने आने के बाद प्रशासक ने ठेकेदार शिवदत्त सिजोरिया के कथन लिए जिसमें उसने बताया कि छत की मरम्मत का काम 17 जुलाई को पूरा किया गया और पुताई का काम 07 अगस्त को पूरा किया गया। काम पूरा हो जाने के बाद भी फाइलों को रोके रखने को प्रशासक ने लापरवाही माना और मुख्य नगर पालिका अधिकारी दिनेश सोनी के निलंबन का प्रस्ताव बनाकर कलेक्टर को भेज दिया।

ये भी पढ़ें – शिवराज सरकार की बड़ी सफलता, पहली बार अति उच्चदाब विद्युत सब-स्टेशन रिमोट से ऑपरेट

ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह के निर्देश पर प्रशासक नगर परिषद् बिलौआ के हस्ताक्षर से जारी निलंबन आदेश में कहा गया है कि प्रभारी मुख्य नगर पालिका अधिकारी बिलौआ दिनेश सोनी के इस कृत्य से स्पष्ट होता है कि उन्होंने प्रशासक को भ्रमित कर, धोखाधड़ी कर उक्त दोनों काम पूरे होने के बाद सक्षम अधिकारी के सामने स्वीकृति के लिए प्रस्तुत किया। इनके इस कृत्य को देखते हुए निलंबित किया जाता है।

ये भी पढ़ें – यहां पढ़िए 20 अगस्त की मध्य प्रदेश की सभी बड़ी खबरें, केवल एक क्लिक पर

आदेश में कहा गया है कि निलंबन अवधि के दौरान दिनेश सोनी का कार्यालय मुख्यालय परियोजना अधिकारी जिला शहरी विकास अभिकरण ग्वालियर रहेगा ।आपको यह भी बता दें कि बिलौआ प्रभार के दौरान दिनेश सोनी पर और भी कई मामलों में आरोप लगे थे।

लापरवाही की मिली सजा, मुख्य नगर पालिका अधिकारी निलंबित