-RSS-trusts-Modi-government

 ग्वालियर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने राम मंदिर मुद्दे पर नरेंद्र मोदी सरकार पर भरोसा जताया है, उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि सत्ता में बैठे हुए लोगों की मंदिर मुद्दे पर प्रतिबद्धता को लेकर कोई शंका नहीं है। वे ग्वालियर में आयोजित राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की तीन दिवसीय अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा के समापन के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे । भैयाजी जोशी ने स्पष्ट किया कि राम मंदिर को लेकर 1980-90 से जो आंदोलन चल रहा है, जब तक मंदिर पूरा नहीं होगा तब तक हमारा आंदोलन चलता रहेगा। हम न्यायालय से अपेक्षा करते हैं कि शीघ्रता से इसके संदर्भ में फैसला दें। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के संबंध में उनका एजेंडा फिक्स है। यह राष्ट्रीय अस्मिता का मुद्दा है। मंदिर उसी स्थान पर बनेगा, राम मंदिर के लिए बनी समझौता समिति उसी दिशा में आगे बढ़े तो ही हम समर्थन करेंगे।

अयोध्या विवाद पर मध्यस्थता के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा तीन सदस्यीय समिति के गठन के सवाल पर संघ के सरकार्यवाह जोशी ने कहा, ‘हम किसी भी ऐसे कदम का स्वागत करते हैं। मंदिर उसी स्थान पर बनेगा और हम उसके साथ कोई समझौता नहीं करने वाले हैं। मध्यस्थ अगर इस दिशा में जाएंगे तो हम उसका स्वागत करेंगे। जब तीन सदस्यीय पैनल इसपर अपनी कार्यवाही शुरू करेगी तब पता चलेगा। इस प्रकार के सकारात्मक कदम का स्वागत करते हैं और ऐसी कोशिश होनी चाहिए।’ गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या विवाद के समाधान खोजने के लिेए तीन सदस्यों वाली मध्यस्थता कमेटी का गठन किया है। मध्यस्थता के लिए कोर्ट ने 8 सप्ताह का समय तय किया है। कोर्ट की ओर से आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर, मध्यस्थता कानूनों के विशेषज्ञ श्रीराम पंचू और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस इब्राहिम खलीफुल्लाह को मध्यस्थता पैनल के लिए नामित किया गया है।