घोटाला : CMHO कार्यालय से जब्त फाइलों में भ्रष्टाचार की गंध, कलेक्टर ने जारी किया नोटिस

Scam--corruption-in-files-seized-from-CMHO-office

ग्वालियर। लोगों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी संभालने वाले मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी CMHO कार्यालय का स्वास्थ्य जल्दी ही ख़राब होने वाला है। पिछले दिनों यहाँ से जब्त की गईं 19 फाइलों की जांच पूरी हो गई है। कलेक्टर को सौंपी गई जांच रिपोर्ट में अपर कलेक्टर ने भारी कमियां उजागर की हैं। जिसके बाद कलेक्टर ने CMHO को नोटिस जारी कर दिया है। 

एक शिकायत के बाद पिछले दिनों 16 मई को अपर कलेक्टर रिंकेश वैश्य ने मोतीमहल स्थित CMHO कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया था और यहाँ से 19 फाइलें जब्त की थी। श्री वैश्य ने अधिकारियों के साथ फाइलों की जांच कर रिपोर्ट कलेक्टर अनुराग चौधरी को सौंप दी। जानकारी के अनुसार सबसे ज्यादा गड़बड़ी नेशनल हेल्थ मिशन NHM की फाइलों में मिली है। जांच में पता चला है कि RCH और NHM स्टाफ को इस वर्ष मार्च में जो भुगतान किया गया उसमें अटेंडेंस रजिस्टर को नजर अंदाज किया गया साथ ही भुगतान के लिए सक्षम अधिकारी की अनुमति भी नहीं ली गई।  इसके अलावा मैसर्स मार्ले इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड को HBLC किट की खरीदी का भुगतान मूल देयक नहीं होने के बावजूद भी कर दिया। जांच में टीम को आशा कार्यकर्ताओं को ड्रेस के भुगतान का रिकॉर्ड नहीं मिला जबकि 450 रुपये प्रति कार्यकर्ता के हिसाब से भुगतान किया गया। एक और बड़ी गड़बड़ी जांच में मिली वो ये कि NHM शाखा ने उन भुगतानों का भी चेक से भुगतान कर दिया जिनका भुगतान RTGS से होना था। सबसे बड़ी गड़बड़ी आशा कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण में सामने आई। टीम ने जब फाइलें चेक की तो वर्ष 2017-18 के रिकॉर्ड में प्रशिक्षणार्थीयों की संख्या 154 दर्ज थी जबकि भुगतान 425 को किया गया। और एक ही सूची को दो बार भी प्रस्तुत किया गया। 

इसके अलावा PCPNDT के आवेदन बड़ी संख्या में लंबित मिले। इनको लेकर कई बार वरिष्ठ अधिकारियों ने निर्देश दिए मतलब साफ़ है कि CMHO ने वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशो की अनदेखी की। कार्यालय द्वारा नर्सिंग होम,क्लिनिक के पंजीयन और नवीनीकरण आवेदनों का समय पर निराकरण भी नहीं किया। राज्य बीमारी सहायता योजना में 21 प्रकरणों में अस्पताल से मांग आने के बाद भी इनकी स्वीकृति जारी नहीं की गई। और न ही भुगतान किया गुया। इसके अलावा भी कई शाखाओं में बड़ी गड़बड़ियाँ मिलीं है। जांच रिपोर्ट के आधार पर कलेक्टर अनुराग चौधरी ने CMHO डॉ. मृदुल सक्सेना को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। 


21 फाइलों की जांच तीन दिन में मिलेगी

अपर कलेक्टर रिंकेश वैश्य ने एक दिन पहले एक बार फिर औचक निरीक्षण कर CMHO ऑफिस की NHM शाखा से 21 फाइलें जब्त की थीं। इन्हें जाँच के लिए कोषालय अधिकारी अनिल सक्सेना को सौंपा गया है। श्री सक्सेना के मुताबिक जांच शुरू हो चुकी है वे खुद दो सहायक कोषालय अधिकारियों के साथ फाइलों की जांच कर रहे हैं तीन दिन में जाँच पूरी हो जाएगी।