घोटाला : प्रिंसिपल ने दूसरे बैंक एकाउंट में ट्रांसफर कराई स्कॉलरशिप की राशि

शिकायतकर्ता के अनुसार एसपी ने इस मामले में 3 दिसंबर को एफआईआर के आदेश दे दिए हैं लेकिन अब तक एफआईआर नहीं हुई।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। एक स्कूल प्रिंसिपल का घोटाला सामने आया है। शासन से मिलने वाली स्कॉलरशिप को प्रिंसिपल ने अपने बेटे के बैंक एकाउंट में ट्रांसफर करा लिया। स्टूडेंट्स पूछते रहे तो उन्हें टालते रहे। मामला अनुसूचित जाति के बच्चों से जुड़ा था तो अजाक्स सामने आया, एसपी से शिकायत के बाद मामले में एफआईआर के आदेश भी हुए लेकिन अभी तक एफआईआर नहीं हो पाई है। शिकायतकर्ता का कहना है कि अब उस पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है।

अनुसूचित जाति जनजाति अधिकारी कर्मचारी संघ अजाक्स के संभागीय महासचिव बीएल वर्मा ने एक शिकायती आवेदन एसपी अमित सांघी को दिया है। उन्होंने बताया कि शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय किला गेट ग्वालियर में पढ़ने वाली अंजलि ने इस विद्यालय से 1018 – 19 कक्षा 11वीं पास किया है। उसे शासन से मिलने वाली स्कॉलरशिप नहीं दी गई।

ये भी पढ़ें – बढ़ते कोरोना केस पर सीएम शिवराज की बड़ी बैठक, अधिकारियों को मिले निर्देश- शीघ्र लागू हो ये व्यवस्था

बच्ची ने कई बार निवेदन किया लेकिन स्कूल प्रबंधन ने उसे हमेशा टालते हुए कहा कि राशि उसके बैंक खाते में भेज दी गई है। वर्मा ने कहा कि जब उन्होंने पता लगाया तो अंजलि जैसे कुल 13 बच्चे ऐसे निकले जिनकी स्कॉलरशिप उनके पास तक नहीं पहुंची बल्कि किसी दूसरे बैंक एकाउंट में ट्रांसफर कर दी गई।

ये भी पढ़ें – NSUI का जीवाजी विश्वविद्यालय पर हल्ला बोल, पुलिस ने चलाई लाठी, पानी की बौछार की

बीएल वर्मा ने कहा कि जब उन्होंने राशि ट्रांसफर वाले एकाउंट का बैंक से पता किया तो ये राशि तत्कालीन स्कूल प्रिंसिपल पीसी गुप्ता के बेटे सक्षम देव गुप्ता के एकाउंट में ट्रांसफर की गई।  उन्होंने इसका स्टेटमेंट निकलवाकर 25 अगस्त 2021 को एसपी अमित सांघी से शिकायत की। एसपी ने सीएसपी को जाँच के आदेश दिए।

ये भी पढ़ें – स्वामित्व योजना में शीर्ष पर MP, सीएम शिवराज के अधिकारियों को निर्देश, इन जिलों को मिलेगा लाभ

उन्होंने बताया कि जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो एसपी साहब से फिर से मिलकर निवेदन किया जिस पर 3 दिसंबर को उन्होंने एफआईआर के निर्देश दिए लेकिन अब तक कोई एफआईआर नहीं हुई , बीएल वर्मा ने कहा कि अब उनके ऊपर शिकायत वापस लेने के दबाव बनाये जा रहे हैं, लेकिन वो दोषियों पर कार्रवाई चाहते हैं। उधर एडिशनल एसपी हितिका वासल ने कहा कि शिकायत की जाँच चल रही है, जांचपुरी होने के बाद आगे की कार्रवाई होगी।

घोटाला : प्रिंसिपल ने दूसरे बैंक एकाउंट में ट्रांसफर कराई स्कॉलरशिप की राशि