राहुल गांधी के ट्विट पर आखिर सिंधिया समर्थक मंत्रियों ने क्यों साधी चुप्पी ?

ग्वालियर। कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया से जुड़े किसी भी मुद्दे पर हमेशा आवाज बुलंद करने वाले ग्वालियर के दो मंत्री राहुल गांधी के ट्विट पर चुप्पी साध गए हैं। आज ग्वालियर में मीडिया ने कई बार दोनों मंत्रियों से इस पर प्रतिक्रिया लेना चाही लेकिन दोनों ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी जो चर्चा का विषय बनी हुई है। गोडसे को देश भक्त कहकर लोकसभा चुनावों के समय पार्टी की किरकिरी करा चुकी और प्रधानमंत्री की नाराजगी झेल चुकी भोपाल की सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का नाम एक बार फिर विवादों में आ गया है। 

दरअसल, बुधवार को संसद में  डीएमके सांसद ए राजा नाथूराम गोडसे के महात्मा गांधी की हत्या की वजह वाला बयान पढ़ रहे थे तभी सदन में मौजूद साध्वी प्रज्ञा खड़ी होकर इसपर टोका टोकी की और देशभक्तों का जिक्र करने लगीं। विपक्ष उनपर हमलावर हो गया और विरोध करने लगा। हंगामा होने पर लोकसभा अध्यक्ष ने टिप्पणी को सदन  की कार्रवाई से हटवा दिया। सदन के हंगामे के बाद राहुल गांधी के प्रज्ञा ठाकुर को लेकर एक ट्विट किया। जिसमें उन्होंने लिखा कि  ‘आतंकवादी प्रज्ञा ने आतंकवादी गोडसे को देशभक्त बताया। यह भारत के संसद के इतिहास का एक दुखद दिन है।’ राहुल गांधी के इस ट्विट पर कांग्रेस का कोई भी नेता या मंत्री प्रतिक्रिया नहीं दे रहा। 

ग्वालियर में मौजूद कमलनाथ सरकार के दो कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और इमरती देवी इसपर कुछ भी बोलने से बचती रहीं। मीडिया ने गुरुवार को दिन में कई बार बात करनी चाही लेकिन दोनों ने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। खास बात ये है कि सिंधिया समर्थक खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी सिंधिया से जुड़े किसी भी मामले में हमेशा आवाज बुलंद करते रहते हैं लेकिन पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष के बयान पर चुप्पी साध गए हैं। जो समझ से परे है । मंत्रियों की इस चुप्पी पर चर्चाओं का बाजार गर्म है।