ठेकेदार की मौत के बाद शव रखकर थाने का घेराव, भाजपा नेता पर लगाए गंभीर आरोप

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। 29 अक्टूबर को खुद पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगाने वाले ठेकेदार महेश परमार की दिल्ली में इलाज के दौरान मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने शव को थाटीपुर थाने में रख कर घेराव किया। मृतक के परिजनों का आरोप है कि कंस्ट्रेक्शन कंपनी के मालिक पर महेश का 12 लाख रुपया बकाया था जिसे उनकी कंपनी नहीं दे रही थी। घटना के बाद पुलिस में भी शिकायत की लेकिन आरोपी भाजपा का बड़ा नेता होने के कारण कोई कार्रवाई नहीं कर रही।

मृतक महेश परमार के परिजनों के मुताबिक महेश ने HG कंस्ट्रेक्शन कंपनी की बड़ा गाँव में बन रही टाउनशिप में टाइल्स लगाने का काम किया था, जिसका पैसा 12 लाख 69 हजार कंपनी पर बकाया था जिसे कंपनी नही दे रही थी। बीती 29 अक्टूबर को जब वो पैसा मांगने कंपनी के मुरार नदी के पास स्थित ऑफिस गया तो मृतक के साथ अभद्रता की गई और पैसा बाद में कहकर भगा दिया जिससे परेशान होकर उसने कंपनी के ऑफिस के बाहर ही मिट्टी का तेल डालकर खुद को आग लगा ली। हालांकि वहाँ मौजूद लोगों ने पानी डालकर आग को बुझा दिया। परिजनों ने महेश को बिरला अस्पताल में भर्ती कराया बाद में हालत बिगड़ने पर उसे दिल्ली में भर्ती कराया गया जहाँ महेश परमार की मौत हो गई। परिजन शव लेकर ग्वालियर आये और शव को थाटीपुर थाने के बाहर रखकर उन्होंने थाने का घेराव कर दिया। परिजनों ने आरोप लगाया कि HG ग्रुप के मालिक आशीष अग्रवाल के खिलाफ घटना के बाद पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी लेकिन आशीष अग्रवाल भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता होने के कारण पुलिस कोई एक्शन नहीं ले रही।

शव के साथ शाम को शुरू हुआ धरना देर रात तक जारी रहा। धरने में कांग्रेस नेता देवाशीष जरारिया और सुमावली के पूर्व विधायक सत्यपाल सिंह सिकरवार नीटू भी शामिल हुए (भाजपा ने इन्हें कुछ दिन पहले पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित किया है)। सत्यपाल सिंह सिकरवार नीटू ने मीडिया से कहा कि महेश मुरैना जिले का रहने वाला था और वो कुछ समय से ग्वालियर में परिवार के साथ रह रहा था। उसने HG ग्रुप में टाइल्स लगाने का काम किया था जिसका बकाया पैसा कंपनी नही दे रही थी। हम लोग चाहते हैं कि पुलिस आरोपी के खिलाफ कार्रवाई करे और मृतक के को न्याय मिले। उधर थाटीपुर थाने के टीआई आरवीएस विमल ने कहा 29 अक्टूबर की घटना के बाद घायल महेश के कथन लिए थे लेकिन कोई लिखित शिकायत नही दी गई थी। अब महेश परमार की मौत के बाद परिजनों की मांग है कि आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए। पुलिस शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर रही है। वहीं भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता आशीष अग्रवाल ने कहा कि इस मामले से उनका लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि कंपनी पर ठेकेदार महेश परमार का किसी भी तरह का पेमेंट बकाया नहीं है। फिलहाल पुलिस ने मामला जाँच में ले लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here