सोशल डिस्टेंसिंग बनी मजाक, बाजारों में उमड़ी भीड़, प्रशासन का आदेश हवा में

ग्वालियर, अतुल सक्सेना 

कोरोना संक्रमण के बीच त्योहार पर बाजार खोलने के लिये बनाई गई गाइड लाइन का ना शहर के लोग पालन कर रहे हैं ना जिला प्रशासन इसका पालन ही करा पा रहा है। नतीजा ये है कि शहर के बाजार भीड़ से पटे पड़े हैं।

ईद और रक्षाबंधन पर शहर के लोगों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए बाजार खोलने के लिए जिला प्रशासन ने गाइड लाइन जारी की है। जिसके तहत केवल ईद और राखी से संबंधित बाजार ही खोलने की अनुमति दी गई लेकिन हालात ये हैं कि दाल बाजार जैसे थोक किराना बाजार सहित पूरा बाजार खुला है। हाँ मॉल, सिनेमा घर पहले की तरह ही बंद हैं और ईद की नमाज भी घर में पढ़ी गई। सबसे बुरा हाल शहर के हृदय स्थल एवं प्रमुख व्यापारिक केंद्र महाराज बाड़े का है। जहाँ राखी और ईद के लिए अस्थाई बाजार बनाया गया है, हालांकि शहर में कई जगह त्योहारों जो देखते हुए अस्थाई बाजार बनाये गए हैं लेकिन सबसे ज्यादा भीड़ महाराज बाड़े पर ही है।

सोशल डिस्टेंसिंग बनी मजाक

महाराज बाड़ा पर जो भीड़ का आलम ही उसे देखकर डर लग रहा है कि कहीं यहाँ कोई संभावित कोरोना पॉजिटिव खरीददारी करने आया तो कितनो को खतरा बढ़ जायेगा। क्योंकि यहाँ सोशल डिस्टेंसिंग जैसे महत्वपूर्ण नियम की खुलकर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। कुछ लोग मास्क पहने हैं तो कुछ ये नियम भी नहीं मान रहे। खास बात ये है कि महाराज बाड़े पर ही पुलिस चौकी है बावजूद इसके ना तो पुलिस इसका पालन करा पा रही है और ना ही लोग कोरोना को लेकर जागरूक है।