परीक्षा तिथि बढ़ाने के लिए जेयू के इंजीनियरिंग संस्थान के छात्रों ने किया हंगामा

Students-of-JU-Engineering-Institute-to-increase-the-exam-date

ग्वालियर।

जीवाजी विश्विद्यालय के इंजीनियरिंग संस्थान के छात्रों ने परीक्षा डेट को बढ़वाने के लिए  परिक्षा नियंत्रक के चेम्बर का घेराव कर लिया। इस दौरान  चेम्बर के अंदर काफी हाईवोल्टेज ड्रामा देखने मे आया। मौके पर पहुंचे NSUI कार्यकर्ताओ ने नियंत्रक व इंजीनियरिंग संस्थान के डायरेक्टर पर गंभीर आरोप लगाए। एक घण्टे से ज्यादा चले इस हाईवोल्टेज ड्रामे के बाद संस्थान के डायरेक्टर के द्वारा दिये गए लिखित आवेदन पर परीक्षा नियंत्रक द्वारा सभी छात्रों की वर्तमान परीक्षा डेट को स्थगित कर दिया। जिसके वाद हंगामा शांत हुआ। 

दरसअल विशव विद्यालय के इंजीनियरिंग संस्थान के फाइनल ईयर के छात्रों की 7th sem की परीक्षा 26 दिसम्बर से होने वाली थी लेकिन छात्रों द्वारा बीते कई दिनों से संस्थान डायरेक्टर से GATE एग्जाम के चलते एक्जाम डेट बढ़ाने की मांग कर रहे थें । लेकिन उनके द्वारा कोई स्पष्ट आश्वासन नहीं मिलने से वह आक्रोशित हो गए और आज उन्होंने विश्विद्यालय के परीक्षा नियंत्रक के चेम्बर का घेराव कर लिया। इस दौरान मौके पर पहुंचे NSUI के कार्यकर्ताओं ने विश्व विद्यालय सत्र व्यवस्था के लगातार लेट होने और उसके कारण सभी छत्रों के कैम्पस प्लेसमेंट में आरही समस्याओं को लेकर काफी हंगामा किया। उनके द्वारा बताया गया कि 6 माह के कोर्स को 2 माह में कम्प्लीट कराया जाना शिक्षा प्रदान करने वाले जिम्मेदारों पर कई सवाल खड़े करता है। 

हंगामा कर रहे छात्रों ने विश्व विद्यालय के कैम्पस प्लेसमेंट सेल पर भी बेहद गंभीर आरोप लगाए है। उनका कहना है कि ग्वालियर के अन्य शिक्षा संस्थानों में प्लेसमेंट के लिए कई कंपनियों को बुलाया जाता है लेकिन विश्व विद्यालय  की ओर से कोई व्यवस्था नही की गई है,  ऊपर से शैक्षणिक सत्र का लगातार लेट होना उनके भविष्य के लिए समस्या पैदा कर रहा है।

छात्रों  द्वारा किये गए हंगामे के बाद विश्व विद्यालय प्रबंधन हरकत में आया और छात्रों के शिक्षा सत्र को जल्दी कम्प्लीट कराए जाने व उनके आगामी GATE एक्जाम को देखते हुए परीक्षा डेट को वर्तमान में स्थगित कर दिया गया।  परीक्षा नियंत्रक राकेश कुशवाह ने अगली परीक्षा तिथि 10 फरवरी के बाद की होने का भरोसा दिलाया तब छात्रों ने हंगामा बंद कर दिया और वहां से चले गए।