देश के प्रतिष्ठित संस्थान IITTM में छात्रों का हंगामा, खाने की ख़राब क्वालिटी पर भड़के स्टूडेंट्स, प्रबंधन पर लगाए गंभीर आरोप

छात्रों ने आरोप लगाया कि मैस में चूहे घूमते रहते हैं , यहाँ का खाना खाकर कई स्टूडेंट्स बीमार भी हो गए, प्रबंधन से शिकायत के लेकिन वो स्टूडेंट्स की बात ही नहीं सुनते।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। पर्यटन मंत्रालय के अधीन काम करने वाले देश के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान IITTM ( Indian Institute of Tourism and Travel Management) के छात्रों ने आज हंगामा कर दिया। हॉस्टल में रहने वाले स्टूडेंट्स मैस में ख़राब खाना परोसे जाने से आक्रोशित थे। छात्रों ने आरोप लगाया कि मैस में चूहे घूमते रहते हैं , यहाँ का खाना खाकर कई स्टूडेंट्स बीमार भी हो गए, प्रबंधन से शिकायत के लेकिन वो स्टूडेंट्स की बात ही नहीं सुनते।

भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंध संस्थान ग्वालियर (Indian Institute of Tourism and Travel Management Gwalior) केंद्र सरकार के पर्यटन मंत्रालय (Ministry of Tourism) के अधीन काम करने वाली एक ऑटोनोमस बॉडी है यहाँ पर्यटन शिक्षा में प्रबंधन से जुड़े कोर्स करने वाले करीब 400 स्टूडेंट्स हॉस्टल में रहते हैं। आज इनमें से कई स्टूडेंट भड़क गए और हंगामा करने लगे।

देश के प्रतिष्ठित संस्थान IITTM में छात्रों का हंगामा, खाने की ख़राब क्वालिटी पर भड़के स्टूडेंट्स, प्रबंधन पर लगाए गंभीर आरोप

स्टूडेंट्स (IITTM Gwalior ) ने आरोप कि संस्थान की तरफ से घटिया खाना मैस में परोसा जा रहा है। मैस से लेकर खाने के स्टोर रूम तक में चूहे घूमते रहते हैं। यही कारण है कि आए दिन छात्र-छात्राएं फूड प्वाइजन का शिकार हो रहे हैं, लेकिन संस्थान प्रबंधन इस तरफ कोई ध्यान नहीं देता है। स्टूडेंट्स ने कहा कि इस ख़राब खाने (Students uproar over poor food quality of IITTM Gwalior) के कारण हमारे कई साथी बीमार भी हो गए लेकिन प्रबंधन कोई सुनवाई नहीं करता। करीब 40 से 50 प्रतिशत बच्चे पेट संबंधी बीमारियों का शिकार हैं।

ये भी पढ़ें – गृह मंत्री अमित शाह ग्वालियर को देंगे सौगात, केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने कही बड़ी बात

स्टूडेंट्स के अचानक हंगामा करने से प्रबंधन एक्शन में आया, IITTM के नोडल अधिकारी चंद्रशेखर बरुआ सहित अन्य अधिकारियों को स्टूडेंट्स को समझाइश दी और हंगामे को शांत कराया। लेकिन कैंटीन संचालक से लेकर प्रबंधन के अधिकारी स्टूडेंट्स के आरोपों को निराधार और असत्य बताते रहे।

ये भी पढ़ें – Indian Railways Update : यात्रियों के लिए जरूरी खबर, IRCTC ने रद्द की 121 ट्रेन

नोडल अधिकारी चंद्रशेखर बरुआ ने मीडिया से कहा कि कोई छात्र बीमार नहीं हैं,  यदि किसी छात्र को पेट दर्द हुआ है तो ये सामान्य बात है किसी को भी हो सकता है, ख़राब खाने की बात गलत है सभी से बात हो गई है , अब इन्हें ही अपना मेन्यू तय करना है उसके हिसाब से खाना बनेगा।

ये भी पढ़ें – संरक्षण के अभाव में अस्तित्व खो रही है The Great Wall Of India, चीन की दीवार को देती है टक्कर

हंगामे के सवाल पर बरुआ ने कहा कि जब स्टूडेंट्स की संख्या अधिक होती है तो ऐसे बातें होती हैं। साफ सफाई और चूहे घूमने के आरोप का जवाब देते हुए उन्होने इसे गलत बताया और कहा कि आप मेरे साथ चलिए और खुद देख लीजिये।