तानसेन समारोह 2022 : हरिकथा, मिलाद और चादरपोशी के साथ हुई “तानसेन समारोह” की पारंपरिक शुरूआत

Tansen Samaroh 2022 : भारतीय शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठापूर्ण महोत्सव “तानसेन समारोह” की शुरुआत आज सोमवार 19 दिसंबर की सुबह पारंपरिक ढंग से हुई। हजीरा स्थित तानसेन समाधि स्थल पर शहनाई वादन, हरिकथा, मिलाद, चादरपोशी और कव्वाली गायन के साथ संगीत सम्राट को स्वरांजलि दी गई। सुर सम्राट तानसेन की स्मृति में आयोजित होने वाले तानसेन समारोह का इस साल 98वाँ वर्ष है।

तानसेन समारोह 2022 : हरिकथा, मिलाद और चादरपोशी के साथ हुई “तानसेन समारोह” की पारंपरिक शुरूआत

 

सोमवार की प्रात:कालीन बेला में तानसेन समाधि स्थल पर परंपरागत ढंग से उस्ताद मजीद खाँ एवं साथियों ने रागमय शहनाई वादन किया। इसके बाद ढोलीबुआ महाराज नाथपंथी संत श्री सच्चिदानंद नाथ जी ने संगीतमय आध्यात्मिक प्रवचन देते हुए ईश्वर और मनुष्य के रिश्तों को उजागर किया। उनके प्रवचन का सार था कि परहित से बढ़कर कोई धर्म नहीं। अल्लाह और ईश्वर, राम और रहीम, कृष्ण और करीम, खुदा और देव सब एक हैं। हर मनुष्य में ईश्वर विद्यमान है। हम सब ईश्वर की सन्तान है तथा ईश्वर के अंश भी हैं। सभी मतों का एक ही है संदेश है कि पाप सभी नेकी के मार्ग पर चलें। ढोली बुआ महाराज द्वारा राग ” बैरागी” में कबीर रचित भजन प्रस्तुत किया। भजन के बोल थे ” संतन के संग दाग न लागे ” । उन्होंने प्रिय भजन “रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम” का गायन भी किया।

तानसेन समारोह 2022 : हरिकथा, मिलाद और चादरपोशी के साथ हुई “तानसेन समारोह” की पारंपरिक शुरूआत

ढोलीबुआ महाराज की हरिकथा के बाद मुस्लिम समुदाय से मौलाना इकबाल लश्कर कादिरी ने इस्लामी कायदे के अनुसार मिलाद शरीफ की तकरीर सुनाई। उन्होंने कहा सबसे बड़ी भक्ति मोहब्बत है। उनके द्वारा प्रस्तुत कलाम के बोल थे ” तू ही जलवानुमा है मैं नहीं हूँ”। अंत में हजरत मौहम्मद गौस व तानसेन की मजार पर राज्य सरकार की ओर से सैयद जियाउल हसन सज्जादा नसीन जी द्वारा परंपरागत ढंग से चादरपोशी की गई। इससे पहले जनाब फरीद खानूनी, जनाब भोलू झनकार,जनाब लतीफ खां, जनाब अल्लाह रक्खा एवं उनके साथी कब्बाली गाते हुये चादर लेकर पहुंचे। कव्वाली के बोल थे ”खास दरबार-ए-मौहम्मद से ये आई चादर”।

तानसेन समारोह 2022 : हरिकथा, मिलाद और चादरपोशी के साथ हुई “तानसेन समारोह” की पारंपरिक शुरूआत

तानसेन समाधि पर परंपरागत ढंग से आयोजित हुए इस कार्यक्रम में अपर कलेक्टर एच बी शर्मा, एसडीएम प्रदीप सिंह तोमर, विनोद सिंह , सीएसपी  रवि भदौरिया, तहसीलदार श्रीमती शारदा पाठक व श्रीमती शुभ्रता त्रिपाठी तथा समाज सेवी बाल खांडे व दिनेश पाठक सहित अन्य कलारसिक, उस्ताद अलाउद्दीन खाँ कला एवं संगीत अकादमी के अधिकारी, गणमान्य नागरिक व मीडिया प्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

तानसेन समारोह 2022 : हरिकथा, मिलाद और चादरपोशी के साथ हुई “तानसेन समारोह” की पारंपरिक शुरूआत

आज शाम तानसेन समाधि पर होगा औपचारिक शुभारंभ और अलंकरण समारोह

गौरतलब है कि तानसेन समारोह का औपचारिक शुभारंभ एवं तानसेन अलंकरण समारोह आज शाम हजीरा स्थित तानसेन समाधि परिसर में चैन्नाकेशव मंदिर बेलूर की थीम पर बने भव्य एवं आकर्षक मंच पर होगा। इसी मंच पर बैठकर देश और दुनियाँ के ब्रम्हनाद के शीर्षस्थ साधक सुर सम्राट तानसेन को स्वरांजलि अर्पित करेंगे।