लॉटरी के नाम पर ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश, B.Tech, MBA हैं आरोपी

गिरफ्तार आरोपी छपरा बिहार के रहने वाले हैं, फरीदाबाद में कॉल सेंटर चलाकर लॉटरी के नाम पर लोगों को ठग रहे थे।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  ग्वालियर पुलिस(Gwalior Police) के एक ऐसे अंतरराज्यीय ठग गिरोह (Fraud Gang) का पर्दाफाश किया है जो लॉटरी के नाम पर अब तक देश में करोड़ों रुपये की ठगी कर चुका है। ठगी के लिए इन लोगों ने बाकायदा एक कंपनी बना रखी थी, शानदार ऑफिस बना रखा था, स्टाफ में यंग लड़के लड़कियां शामिल हैं। ग्वालियर की क्राइम ब्रांच (Gwalior Crime Branch Police) ने साइबर टीम (Gwalior Police Cyber ​​Cell) से जुटाए इनपुट के आधार पर फरीदाबाद जाकर दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है, ये दोनों कंपनी के डायरेक्टर हैं, इनमें से एक B.Tech है जबकि दूसरे MBA पास है।

लॉटरी के नाम पर ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश, B.Tech, MBA हैं आरोपी

ग्वालियर की साइबर सेल की मदद ऐसे क्राइम ब्रांच पुलिस ने एक शानदार सफलता हासिल की है और लॉटरी के नाम पर लोगों को ठगने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। एसएसपी अमित सांघी (SSP Amit Sanghi) ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि  2019 में कंपू थाना क्षेत्र में रहने वाली एक युवती ने शिकायत दर्ज कराई थी कि जब वो ऑनलाइन शॉपिंग कर रही थी तब उसके मोबाइल पर “डील फॉर यू”  नामक वेबसाइट से मैसेज आया कि आपको इनाम में होंडा अमेज कार निकली है।

ये भी पढ़ें – राज्य सरकार का 17 लाख कर्मचारी-पेंशनर्स को बड़ा तोहफा, DA में 3 फीसद की वृद्धि, एरियर्स का होगा भुगतान

इनाम की बात सामने के बाद युवती को लालच आ गया उसने जब आगे बात की तो ठगों ने प्रोसेसिंग फ़ीस, रजिस्ट्रेशन, जीएसटी आदि के नाम पर 4 लाख 40 हजार रुपये अलग अलग बैंक खातों में जमा करवा लिए।  पैसे ट्रांसफर होने के बाद ठगों ने मोबाइल और वेबसाइट बंद कर दी।  युवती की शिकायत पर क्राइम ब्रांच ने इन्वेस्टिगेशन शुरू की और साइबर टीम की मदद से टेक्नीकल एविडेंस, मोबाइल लोकेशन आदि जुटाए।

ये भी पढ़ें – Jabalpur News: कुख्यात हिस्ट्रीशीटर अब्दुल रज्जाक के दामाद ने 1 करोड़ 80 लाख रूपये का किया गबन

क्राइम ब्रांच की टीम को जब पिन पॉइंट जानकारी मिली कि ठगी का धंधा फरीदाबाद से चल रहा है। ग्वालियर क्राइम ब्रांच की टीम  ने 30 मार्च को अशोका एन्क्लेव पार्ट 2, फरीदाबाद (हरियाणा) स्थित ऑफिस पर दबिश दी। पुलिस को यहाँ एक कॉल सेंटर संचालित होता मिला। पुलिस टीम ने जब काम करने वाले लड़के-लड़कियों से बात की तो मालूम चला  कि कॉल सेंटर दो व्यक्तियों द्वारा संचलित किया जाता है। जानकारी के बाद ग्वालियर पुलिस ने दोनों संचालकों को पकड़कर उनसे जब पूछताछ की तो उन्होंने ठगी करना स्वीकार कर लिया।

ये भी पढ़ें – MP Transfer : नगरीय विकास एवं आवास विभाग में थोकबंद तबादले, देखें लिस्ट

एसएसपी अमित सांघी ने बताया कि कॉल सेंटर के शानदार ऑफिस से पुलिस को 9 लैपटॉप, 40 सिम, 25 मोबाइल फोन और अन्य सामान मिला है। इन लोगों ने कॉल सेंटर के नाम पर फर्जी वेबसाइट के जरिये ठगी का जाल फैला रखा था।  पूछताछ में आरोपियों ने  छपरा बिहार के रहने वाले हैं इनमें से एक बीटेक है और एक एमबीए। इन लोगों ने देशभर में अब तक हजारों लोगों से करोड़ों की ठगी की है।

ये भी पढ़ें – MP News : राज्य सरकार ने इस IPS अधिकारी को दी पदोन्नति

आरोपियों ने पूछताछ में बताया वो मंत्रा, फ्लिपकार्ट, अमेजन जैसी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों पर नजर रखते थे और जो कोई भी यहाँ से शॉपिंग करता था उनक डेटा निकलकर उन्हें फोन कर लॉटरी में इनाम निकलने का झांसा देते थे।  और जब व्यक्ति इनके जाल में फंसकर पैसे ट्रांसफर कर देता था तो वो मोबाइल नंबर और वेबसाइट बंद कर देते थे।  पुलिस को इनके पांच बैंक एकाउंट का पता चला है। एसएसपी ने कहा कि आरोपियों को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी और इनके स्टाफ को नोटिस देकर यहाँ बुलाकर पूछताछ कर पता किया जायेगा कि इस अपराध में उनकी क्या भूमिका है।