तीन कर्मचारी निलंबित, एक की सेवा समाप्ति का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा

अपर कलेक्टर एवं निर्वाचन प्रशिक्षण के प्रभारी एच बी शर्मा ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि निर्वाचन कार्य में लापरवाही बरतने वालों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जायेगी।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। मप्र (MP News) में होने जा रहे पंचायत चुनावों के लिए मतदान दलों का प्रशिक्षण कार्यक्रम जारी है। निर्वाचन आयोग के सख्त निर्देश है कि जिन अधिकारियों और कर्मचारियों  की ड्यूटी निर्वाचन कार्य में लगी है वो उसे गंभीरता से लें। निर्देश के बावजूद कुछ अधिकारी कर्मचारी प्रशिक्षण कार्यक्रम से अनुपस्थित हो रहे हैं जिनकेख़िलाफ निलंबन की कार्यवाही की जा रही है।

ग्वालियर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह (Gwalior District Election Officer) ने आज शनिवार को मतदान दलों के प्रशिक्षण कार्यक्रम में अनुपस्थित रहने वाले तीन कर्मचारियों को निलबित करने के आदेश दिए एवं एक अधिकारी के खिलाफ सेवा समाप्ति के प्रस्ताव भेजा है।

ये भी पढ़ें – कर्मचारियों के लिए नए वेतनमान की घोषणा, मिलेगा DA सहित अन्य भत्ते का लाभ, 5 महीने के एरियर्स का होगा भुगतान

जानकारी के अनुसार त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन का प्रशिक्षण भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंधन संस्थान (IITTM) में तीन पालियों में आयोजित किया गया। द्वितीय प्रशिक्षण के समापन अवसर पर 1563 अधिकारियों – कर्मचारियों को मतदान कराने की बारीकियाँ सिखाई गईं।

ये भी पढ़ें – कांग्रेस की “कोयला यात्रा” पर ऊर्जा मंत्री का पलटवार, महाराष्ट्र, राजस्थान में निकालेंगे?

प्रशिक्षण के दौरान कुल 1559 अधिकारी – कर्मचारी प्रशिक्षण में उपस्थित हुए। चार अनुपस्थित कर्मचारियों में से माध्यमिक शिक्षक आनंद शर्मा हाईस्कूल डबरा, प्रधान अध्यापक हाईस्कूल कुलैथ नाथूराम झा एवं सहायक अध्यापक गोगई अनिल हर्षाना को कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने निलंबित करते हुए विभागीय जांच के आदेश दिए। इसके साथ ही होटल प्रबंधन संस्थान के जोसेफ जोय मैथ्यू की सेवाएँ समाप्त करने के लिये प्रस्ताव भारत सरकार को भेजने के निर्देश भी जारी किए हैं।

ये भी पढ़ें – लापरवाही पड़ी भारी, 13 निलंबित, कलेक्टर ने दी अनिवार्य सेवानिवृति की चेतावनी

अपर कलेक्टर एवं निर्वाचन प्रशिक्षण के प्रभारी एच बी शर्मा ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि निर्वाचन कार्य में लापरवाही बरतने वालों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जायेगी। ऐसे अधिकारियों और कर्मचारियों की सेवायें समाप्त करने का प्रस्ताव भी संबंधित विभागों को भेजा जायेगा।