ठग ने WhatsApp नंबर के डीपी पर लगाई कुलपति की फोटो, प्रोफेसर्स से मांगा पैसा

जीवाजी विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ सुशील मंडेरिया ने कहा कि विश्वविद्यालय के सभी स्टाफ को निर्देश दे दिए हैं कि ऐसे किसी भी मैसेज अथवा मेल को गम्भीरता से नहीं लें।

ग्वालियर , अतुल सक्सेना। जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर (Jiwaji University Gwalior) के कुलपति प्रोफेसर अविनाश तिवारी (JU Vice Chancellor Professor Avinash Tiwari) के नाम पर साइबर ठगी (cyber thugs) का एक मामला सामने आया है। साइबर ठग ने अपने व्हाट्सएप नंबर पर डीपी की जगह कुलपति प्रो तिवारी की फोटो लगा दी और फिर जीवाजी विश्वविद्यालय के प्रोफसर्स को रुपयों की मांग वाले मैसेज भेजे। कुलपति ने इसके खिलाफ पुलिस (Gwalior Police) में शिकायत दर्ज कराई है।

साइबर ठगों के खिलाफ ग्वालियर पुलिस द्वारा की जा रही लगातार कार्रवाई के बाद भी ठगों की हरकतें कम नहीं हो रही। ताजा मामला जीवाजी विश्वविद्यालय के कुलपति के नाम से ठगी के प्रयास का सामने आया है। दर असल जीवाजी विश्वविद्यालय के कुछ प्रोफेसर्स के मोबाइल व्हाट्सएप नंबर पर एक मैसेज आया जिसमें पैसों की मांग की गई। जिस नंबर से मैसेज आया उसकी डीपी पर कुलपति प्रोफेसर अविनाश तिवारी को फोटो लगी थी तो वे सोच में पड़ गए।

ये भी पढ़ें – कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, रेलवे ने जारी किए आदेश, छुट्टियों की घोषणा, मिलेगा लाभ

व्हाट्सएप मैसेज भेजने वाले ठग ने कुलसचिव को मैसेज लिखा “hello how are you” फिर लिखा “where are you the moment” लिखा और फिर जैसे ही जवाब आया, पैसों की जरुरत होने के मैसेज भेज दिया। मैसेज पढ़कर वे सोचने लगे कि आखिर कुलपति सर को पैसों की क्या जरुरत है? और है भी तो वे फोन कर सकते थे मैसेज क्यों किया ?

ये भी पढ़ें – MP College : UG-PG प्रवेश पर बड़ी अपडेट, 1317 कॉलेजों में दाखिले की प्रक्रिया जारी, जाने अलॉटमेंट नियम

शंका समाधान के लिए उन्होंने कुलपति प्रोफेसर अविनाश तिवारी को फोन लगाकर हकीकत पूछी तो उन्होंने ऐसे किसी भी मैसेज और जरुरत से इंकार कर दिया। कुछ देर बाद कुछ अन्य प्रोफेसर्स के पास भी मैसेज आने लगे।  लेकिन कुलपति के इंकार करने के बाद सभी को समझ आ गया कि ये किसी साइबर ठग की करतूत है वो कुलपति के नाम पर पैसे ऐंठना चाहता है।

ये भी पढ़ें – Gwalior : मतदान से पहले साड़ियां बांटने का वीडियो वायरल, निर्वाचन कार्यालय पहुंची शिकायत

मामला सामने आने के बाद कुलपति ने पुलिस अधीक्षक को इसकी लिखित शिकायत की है। पुलिस का कहना है कि नंबर के आधार पर जल्दी ही ठग को गिरफ्तार किया जायेगा। उधर जीवाजी विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ सुशील मंडेरिया ने कहा कि विश्वविद्यालय के सभी स्टाफ को निर्देश दे दिए हैं कि ऐसे किसी भी मैसेज अथवा मेल को गम्भीरता से नहीं लें।

ठग ने WhatsApp नंबर के डीपी पर लगाई कुलपति की फोटो, प्रोफेसर्स से मांगा पैसाठग ने WhatsApp नंबर के डीपी पर लगाई कुलपति की फोटो, प्रोफेसर्स से मांगा पैसा ठग ने WhatsApp नंबर के डीपी पर लगाई कुलपति की फोटो, प्रोफेसर्स से मांगा पैसा