“टॉयलेट एक प्रेम कथा” का असर: खुले में शौच जाना मंजूर नहीं था सिर्फ इसलिए छोड़ दी ससुराल

ग्वालियर। अक्षय कुमार और भूमि पेढ़नेकर की फिल्म “टॉयलेट एक प्रेम कथा” को आये भले ही बहुत समय बीत गया हो लेकिन उसमें दिया गया मैसेज आज भी लोगों को प्रभावित कर रहा है। ऐसा ही एक मामला ग्वालियर में सामने आया है जहाँ एक लड़की ने अपनी ससुराल ससुराल सिर्फ इसलिए छोड़ दी क्योंकि वहां शौचालय नहीं था और उसे  ससुराल वाले खुले में जाने के लिए प्रताड़ित करते थे लेकिन उसे खुले में शौच जाना मंजूर नहीं था। मायके लौटी लड़की ससुरालियों की प्रताड़ना की शिकायत पुलिस में की है। 

दरअसल ग्वालियर के गोसपुरा में  रहने वाली रानी राजपूत की शादी 2017 में मुरैना के निठारा गाँव निवासी अमोल सिंह के साथ हुई थी। जब वो ससुराल पहुंची तो वहां शौचालय नहीं था। उसने अपने पति और सास ससुर से घर मे शौचालय बनाने की बात की लेकिन उसके सुसराल वालों ने रानी की बात अनसुनी कर दी। इतना ही नहीं  रानी को खुले में शौच नहीं जाने  पर सभी प्रताड़ित भी करने लगे। इस बीच रानी को एक बेटा भी हुआ जो अब 18 महा का हो चुका है लेकिन रानी को मिलने वाली प्रताड़ना का सिलसिला  जारी रहा। अब सुसराल वाले रानी से दहेज की भी मांग करने लगे है। उनके प्रताड़ना भी बदने लगी जिसके बाद रानी ने आवाज उठाने का फैसला किया और उसने अपनी सुसराल को ही छोड़  दिया। रानी अपने अपने बुजुर्ग माता पिता के पास लौट आई और मंगलवार को पुलिस की जनसुनवाई में पहुंची और अपने ससुराल जनों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई कि उसके ससुराल वाले उसे शौचालय बनाकर नहीं दे रहे हैं और उसे प्रताड़ित भी कर रहे हैं लिहाजा उसने अपना ससुराल छोड़ दिया है । रानी के पिता गजराज सिंह अपनी बेटी के फैसले से खुश है उनका कहना है कि मेरी बेटी ने सही निर्णय लिया है और मैं उसके साथ हूं । प्रदेश सरकार और  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी खुले में शौच ना जाएं इसके। लिए अभियान चला रहे हैं। लेकिन मैं अपने बेटी के ससुराल वालों को नहीं समझा पाया ।इसलिए अब पुलिस के पास शिकायत लेकर आए हैं। कि या तो उन्हें समझाइश दे या सजा।  बहरहाल रानी का ये कदम निश्चित ही उसके जीवन में बहुत परेशानिया पैदा करेगा लेकिन उसने जो कदम उठाया है वो उन लड़कियों और महिलाओं को हिम्मत और हौसला जरूर देगा जो मुंह बंद कर प्रताड़ना सहती रहती हैं।