traffic-jam-in-bade-for-wrong-planing-of-administration-mla-angry-

ग्वालियर। शहर के हृदय स्थल महाराज बाड़े पर अव्यवस्थित यातायात को व्यवस्थित करने के लिए जिला प्रशासन के निर्देश पर दो दिन पहले नगर निगम द्वारा लगाये गए बेरिकेड्स ने शहरवासियों को परेशानी में  डाल दिया। गलत प्लानिंग के चलते महाराज बाड़े से एक एक किलोमीटर दूर जाम के हालात बन गए। व्यापारियों और शहरवासियों ने क्षेत्रीय विधायक को फोन लगा दिया जिसके बाद विधायक ने प्रशासन के अफसरों को फटकार लगाकर बेरिकेड्स हटवा दिए।

महाराज बाड़ा शहर का हृदय स्थल होने के साथ साथ प्रमुख व्यापारिक केंद्र भी है। जिसके कारण यहाँ हर समय लोगों की भीड़ रहती है इसके अलावा बाड़े पर जमे फुटपाथी दुकानदारों के कारण रास्ता जाम के हालात बने रहते हैं । पिछले कई वर्षों में जिला प्रशासन,पुलिस और नगर निगम ने यहाँ के यातायात को व्यवस्थित करने के कईबार प्रयास किये लेकिन नतीजा शून्य रहा। इस बार भी तीन दिन पहले कलेक्टर अनुराग चौधरी ने एसपी नवनीत भसीन और निगम कमिश्नर संदीप माकिन के साथ मिलकर आधी रात को महाराज बाड़े का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के बाद कलेक्टर अनुराग चौधरी ने बैठक कर निगम कमिश्नर को फुटपाथी दुकानदारों को हॉकर्स जोन में भेजने और यातायात व्यवस्थित करने के निर्देश दिए। निर्देश के बाद अधिकारियों ने खाड़ी पड़े महाराज बाड़े को देखकर यहाँ सीमेंटेड बेरिकेड्स लगाने का फैसला किया। कलेक्टर के आदेश के पालन में निगम कमिश्नर के निर्देश पर बाड़े पर तत्काल सीमेंटेड बेरिकेड्स लगा दिए गए। नतीजा ये हुआ कि महाराज बाड़े पर जाम के हालात बन गए। शहर के लोग परेशान होने लगे। दो दिनों तक परेशानी झेलने के बाद दुकानदारों और शहर के लोगों ने अब से थोड़ी देर पहले क्षेत्रीय विधायक प्रवीण पाठक को फोन लगाकर मौके पर बुलाया। बाड़े पर जाम के हालात देखकर विधायक भी भौचक रह गए। उन्होंने तत्काल जिला प्रशासन के अधिकारियों को तलब किया। निगम अफसरों को फटकार लगाते हुए उन्होंने तत्काल सभी बेरिकेड्स हटाने के निर्देश दिए। तब कहीं जाकर जाम खुल पाया।