चोरी के शक में ट्रक ड्राइवर के साथ थाने में मारपीट, एसपी ऑफिस के बाहर चक्काजाम, जाँच के आदेश

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। शहर की जनकगंज थाना पुलिस पर एक ट्रक ड्राइवर के साथ थाने के अंदर बेरहमी से मारपीट के आरोप लगे हैं। पिटाई के बाद युवक के हाथ में गंभीर चोट आई हैं। पीड़ित ने आरोप लगाए कि चोरी के शक में पुलिस रात को जबरन थाने के ले गई और कपड़ों के आधार पर चोर समझकर जमकर मारपीट की। पीड़ित ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस वाले पहाड़ी पर ले जाकर एनकाउंटर तक करने की बात कर रहे थे। युवक की मारपीट के बाद कुछ संगठन उसकी मदद के लिए आगे आये और एसपी ऑफिस के बाहर चक्काजाम कर एसपी से कार्रवाई की मांग की। एसपी ने तुरंत सीएसपी को जांच के निर्देश दे दिये।

जनकगंज थाना क्षेत्र के गोल पहाड़िया क्षेत्र में रहने वाला गिर्राज कुशवाह ट्रक ड्राइवर है। उसके परिजन घायल अवस्था में इलाज के लिए लेकर अस्पताल पहुंचे थे, गिर्राज के हाथ में पट्टी बंधी थी। गिर्राज ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि शुक्रवार शाम पुलिस चैकिंग के दौरान जनकगंज थाना पुलिस ने उसे पकड़ लिया। उसने कहा कि लाइसेंस रिन्यू के लिए गया है। पुलिस ने 1000 रुपये का चालान कटवाने की बात की। इसी बीच किसी व्यक्ति ने एक फोटो दिखाते हुए कहा कि यही है। इतना सुनते ही पुलिस उसे पकड़कर जनकगंज थाने ले गई। थाने ले जाकर चारपुलिस कर्मियों ने बिना कुछ कहे मारना शुरू कर दिया। गिर्राज के मुताबिक उसे मारने वालों में एक महिला अधिकारी, एक दो स्टार अधिकारी और दो अन्य पुलिस वाले शामिल थे। मारते हुए चोरी की गाड़ी की जानकारी पूछ रहे थे।

पुलिसकर्मी कर रहे थे एनकाउंटर की बात – पीड़ित

गिर्राज ने कहा कि उसने कहा कि जिस शर्ट और तौलिया के आधार पर वो उसे चोर समझ रहे हैं वैसे कपड़े तो और लोगों के पास भी होंगे, इस पर पुलिस वाले बहोड़ापुर थाने ले जाने की बात करने लगे। मारपीट करने वाले दो स्टार अधिकारी ने कहा कि रात को इसे पहाड़ी पर ले जाओ किसी को पता नहीं चलेगा फिर एनकाउंटर कर दो। पीड़ित ने पुलिस से जब बहुत गुहार लगाई और परिजनों ने बहुत समझाया तब देर रात उसे थाने से छोड़ा।

भीम आर्मी का मिला साथ, एसपी ऑफिस के बाहर चक्काजाम किया

आज सुबह घटना की जानकारी मिलते ही भीम आर्मी के लोग इकट्ठा हो गए और उन्होंने घायल गिर्राज कुशवाह को साथ लेकर एसपी ऑफिस के बाहर चक्काजाम किया। हंगामे की जानकारी मिलते ही वरिष्ठ अधिकारियों ने समझाने का प्रयास किया लेकिन आक्रोशित लोग तुरंत कार्रवाई की मांग कर रहे थे।

एसपी ने दिये जाँच के निर्देश

भीम आर्मी के कार्यकर्ता पीड़ित गिर्राज कुशवाह और उसके परिजनों के साथ तत्काल कार्रवाई की मांग पर अड़ गए। जब हंगामा जारी रहने की जानकारी एसपी अमित सांघी को मिली तो उन्होंने खुद ऑफिस के बाहर आकर पीड़ित की बात सुनी फिर उससे लिखित शिकायत देने के लिये कहा। एसपी ने मौके पर ही सीएसपी को एक दिन में जांच करने के निर्देश दिया एवं पीड़ित के मेडिकल के भो निर्देश दिये। उन्होंने भरोसा दिलाया कि जांच में यदि पुलिस कर्मी दोषी पाए जाते हैं तो उनपर कार्रवाई की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here