Vocal For Local: कलेक्टर के इस आदेश में छिपी संस्कृति और परंपरा बचाने की अपील

मन की बात में रविवार को प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील की थी कि वे बाजार से लोकल खरीदेंगे तो आपका त्योहार रोशन होगा साथ ही किसी गरीब भाई बहन के घर में भी रोशनी आएगी।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का Vocal For Local के लिए अपील करना सार्थक हो रहा है। मन की बात में रविवार को प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील की थी कि वे बाजार से लोकल खरीदेंगे तो आपका त्योहार रोशन होगा साथ ही किसी गरीब भाई बहन के घर में भी रोशनी आएगी। प्रधानमंत्री की अपील के बाद अब ग्वलियर कलेक्टर (Gwalior Collector) ने भी एक ऐसा ही आदेश जारी किया है जिसमें Vocal For Local की बात की गई है।

आत्म निर्भर भारत अभियान में जुड़कर लोग एक बार फिर स्वदेशी वस्तुओं की तरफ लौट रहे हैं। सामाजिक स्तर पर इसके लिए जागरूकता लायी जा रही है।  सरकार भी प्रयास कर रही है कि संस्कृति, परम्पराएं बची रहें ये अगली पीढ़ी तक जाएँ।  इसीलिए Vocal For Local का कॉन्सेप्ट तेजी से आगे बढ़ रहा है।

ये भी पढ़ें – सावधान, आपकी गाड़ी में तो नहीं लगा नकली पार्ट्स, नकली इंजन आयल तो नहीं डाल रहे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)ने बीते रविवार को मन की बात कार्यक्रम ने दिवाली पर Vocal For Local की अपील की थी।  पीएम मोदी ने कहा कि अक्टूबर का पूरा महीना ही त्योहारों के रंगों में रंगा रहा है आपको याद है न, खरीदारी मतलब ‘VOCAL FOR LOCAL’, आप local खरीदेंगे तो आपका त्योहार भी रोशन होगा और किसी गरीब भाई-बहन, किसी कारीगर, किसी बुनकर के घर में भी रोशनी आएगी। मुझे पूरा भरोसा है जो मुहिम हम सबने मिलकर शुरू की है, इस बार त्योहारों में और भी मजबूत होगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि आप अपने यहाँ के जो local products खरीदें, उनके बारे में social media पर share भी करें, अपने साथ के लोगों को भी बताएं।

ये भी पढ़ें – MP By- Election : दांव पर सियासी भविष्य, हार-जीत तय करेगी जनता किसके साथ

प्रधानमंत्री की अपील का असर प्रशासन पर हो रहा है।  ग्वालियर जिला कलेक्टर की ओर से जारी एक आदेश में Vocal For Local  की अपील दिखाई देती है, संस्कृति और परंपरा को बचने की अपील दिखाई देती है।  ग्वालियर कलेक्टर ने आदेश जारी किया है कि दिवाली पर मिटटी के दीये बनाने वाले कुम्हारों  किया जाये, दीयों की बिक्री को बढ़ावा दिया जाये।  आदेश में अधीनस्थों को निर्देशित किया गया है कि दीये बेचने वालों की किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए।  साथ ही इनसे किसी भी प्रकार की कर वसूली न की जाए।

ये भी पढ़ें – MP School: निकाली गई नोटशीट, 5 लाख छात्रों को मिलेगा लाभ, खाते में भेजी जाएगी राशि!

Vocal For Local: कलेक्टर के इस आदेश में छिपी संस्कृति और परंपरा बचाने की अपील