मतदाताओं ने की चुनाव बहिष्कार की घोषणा, लगाए पोस्टर बैनर, ये है कारण

मतदाताओं ने बहिष्कार का एलान करने वाले पोस्टर, बैनर अपनी कॉलोनी में लगा दिए हैं , उस पर लिख दिया है ,  "सड़क पानी नहीं तो वोट नहीं", "विकास नहीं तो वोट नहीं" .

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। बुनियादी सुविधाओं के बड़े बड़े वादों से छले गए मतदाताओं ने अब चुनाव बहिष्कार (Election Boycott) की घोषणा की है। मतदाताओं का कहना है कि नेता वादा करके भूल जाते हैं, शहरों में हमें गांव से भी बदतर हालात झेलने पड़ रहे हैं। इसलिए अब नेताओं को वोट देने का क्या फायदा। मतदाताओं ने अपनी कॉलोनी में “सड़क पानी नहीं तो वोट नहीं”, “विकास नहीं तो वोट नहीं” के बैनर पोस्टर लगाकर विरोध शुरू कर दिया है।

ग्वालियर (Gwalior News) की आदित्यपुरम फेस 2 कॉलोनी के निवासी सड़क और पानी जैसी बुनियादी सुविधाओं के लिए मोहताज हैं। शिकायतों के बावजूद ना तो क्षेत्रीय विधायक ने कोई स्थाई हल निकाला और ना ही पूर्व पार्षद ने कभी इस कॉलोनी पर ध्यान दिया।नतीजा ये है कि वार्ड क्रमांक 18 के अंतर्गत आने वाले आदित्यपुरम फेस 2 के निवासी अब चुनाव बहिष्कार Municipal Election Boycott) की घोषणा कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें – हजारों शिक्षकों के लिए अच्छी खबर, जल्द होगा वेतन का भुगतान, EPF खाते पर नई अपडेट, मिलेगा PF का लाभ

स्थानीय निवासी नारायण भदौरिया और संजीव त्यागी ने बताया कि मार्च से कॉलोनी के लोग पीने के पानी के लिए परेशान हैं, नगर निगम कभी टैंकर भेज देता है कभी नहीं, नतीजा लोगों को खुद अपने खर्चे पर  टैंकर खरीदना पड़ता है। स्थानीय लोगों के मुताबिक कॉलोनी में सड़के भी नहीं हैं, बारिश में बुरा हाल हो जाता है।

ये भी पढ़ें – प्रेमी के कमरे में मिला प्रेमिका का शव, हत्या की आशंका, आरोपी हिरासत में

सड़क और पानी जैसी बुनियादी सुविधाओं के लिए संघर्ष कर रहे कॉलोनी के करीब 400 से ज्यादा परिवारों ने चुनावों के बहिष्कार का फैसला लिया है , उन्होंने बहिष्कार का एलान करने वाले पोस्टर, बैनर कॉलोनी में लगा दिए हैं , उस पर लिख दिया है ,  “सड़क पानी नहीं तो वोट नहीं”, “विकास नहीं तो वोट नहीं”.