महिला सब इंस्पेक्टर ने एएसआई के खिलाफ दर्ज कराया बलात्कार का केस

Female-Sub-Inspector-rape-case-filed-against-ASI-

हरदा।  पुलिस विभाग में पदस्थ जिले में पदस्थ महिला एसआई ने एएसआई पर बलात्कार का आरोप लगाते हुए सिटी कोतवाली में गुरुवार को एफआईआर दर्ज कराई है । आरोपी एएसआई उमेश रघुवंशी पुलिस लाइन में पदस्थ है। प्रकरण दर्ज होते ही आरोपी  फरार हो गया । 

हरदा पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार महिला एसआई का आरोप है कि एएसआई रघुवंशी से उसकी पहचान हरदा शहर कोतवाली में परीवीक्षा अवधि के दौरान हुई थी। रघुवंशी ने काम सिखाने के बहाने उससे पहचान बढ़ाई। एक दिन वह थाने के काम से पुलिस लाइन स्थित  आवास पर पहुंचा और बीबी को तलाक देकर एसआई से शादी करने का प्रलोभन दिया  | नाराज  महिला अधिकारी ने  रघुवंशी को घर से निकाल दिया। इसी बीच एक दिन उनकी तबीयत खराब हुई तो आरोपी हालचाल जानने फिर घर पहुंचा। उन्हें डॉक्टर से जांच कराने भी ले गया। घर पहुंचने पर उन्होंने दवाई ली तो नींद लग गई। सुबह जागी तब पता चला की उनके साथ बलात्कार हुआ है।

रघुवंशी ने धमकाते हुए यह बात किसी को नहीं बताने का कहा। इसके बाद यह प्रलोभन दिया कि अपनी पत्नी से तलाक लेकर दूसरी शादी करेगा। लंबे समय तक वह बलात्कार करता रहा। इस बीच वे गर्भवती हो गईं तो आरोपी ने गर्भपात करा दिया। यह तीन बार हुआ। बीच में उसकी पत्नी तलाक देने को तैयार भी हो गई, लेकिन ऐसा किया नहीं। वह उनके घर गई तो दोनों ने दरवाजे में ताला डाला और टीवी की आवाज तेज कर उनके साथ बुरी तरह मारपीट भी की गई। आरोपी ने आर्य समाज से झूठा शादी प्रमाण पत्र भी बनवा लिया, लेकिन वैधानिक शादी नहीं की। 

एफआईआर में एसआई का कहना रहा कि यह बात उसने परिजनों को बताई। गुरुवार को उन्होंने मां के साथ थाना पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई। कोतवाली के प्रभारी एसआई ओपी यादव ने बताया कि आरोपी एएसआई उमेश रघुवंशी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (2) एन, 323, 506, 109 व एससी एसटी एक्ट की धारा 3 (2) वी के तहत प्रकरण दर्ज किया है। आरोपी के घर दबिश दी गई लेकिन ताला लटका मिला। पुलिस ने फरियादी एसआई के बयान कोर्ट में दर्ज कराए हैं।