Indore : मौत के मुंह से प्रधान आरक्षक ने बचाई महिला की जान, ये है पूरा मामला

Indore : इंदौर से एक अच्छी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि एक प्रधान आरक्षण ने महिला की जान बचाई है। वैसे तो अक्सर वैसे तो अक्सर हम ने पुलिस को अपराधियों को पकड़ते हुए दिल का है। लेकिन इन दिनों पुलिस का मानवीय चेहरा लगातार सामने आ रहा है। दरअसल एक महिला प्रधान आरक्षक ने हाल ही में नेक काम कर पुलिस का नया चेहरा दिखाया है। उन्होंने एक महिला की जान बचाई है।

जानकारी के मुताबिक, एक महिला के गले में सरिया घुस गया था, जिसके बाद उसके गले से लगातार खून बहता गया और वह रुकने का नाम नहीं ले रहा था। ऐसे में महिला आरक्षक ने महिला के गले में स्काफ बांध उसे तुरंत अस्पताल भिजवाया। अगर थोड़ी सी देर हो जाती तो शायद ही महिला की जान बच पात। लेकिन महिला आरक्षक की पूर्ति ने महिला की जान बचा दी।

ऐसे हुआ हादसा –

बताया जा रहा है 7 साल की बच्ची को महिला स्कूल छोड़ने के लिए जा रही थी। तभी मच्छी बाजार में महिला के गले में सरिया लग गया। महिला साईकिल पर थी। ऐसे में वह खून से लथपथ हो गई और वहीं पर चिल्लाने लगी आसपास के लोग भी उसके पास आ गए। लेकिन किसी ने भी महिला की मदद नहीं की। उसके बाद इस बात की सूचना महिला की बच्ची ने अपने परिजनों को दी।

उसी वजह तुकोगंज थाना की प्रधान आरक्षक मालती वहां से गुजर रही थी तो उन्होंने महिला को खून में देखा तो तुरंत उसके पास गई। मामला पता चलने के बाद महिला आरक्षक ने तुरंत गले से बह रहे खून पर स्कार्फ बांधा और उसे अस्पताल भेजा। अब महिला सुरक्षित है। महिला की मदद कर अस्पताल में इलाज के लिए भिजवाने पर महिला आरक्षक को सराहनीय कार्य के लिए पुलिस उपायुक्त ने 500 रुपये का नकद पुरस्कार दिया।

इस मामले को लेकर प्रधान आरक्षक मालती कोंदिया ने बताया कि जब मैं कलेक्टर कार्यालय से लौट रही थी। तभी मच्छी बाजार में अंजलि अपनी बच्ची को स्कूल से घर लेकर जा रही थी। इसी दौरान एक साइकिल पर वेल्डिंग में उपयोग होने वाले करीब पांच सरिया लेकर एक व्यक्ति जा रहा था तभी ये सरिया महिला के गले पर लग गए और खून बहने लग गया। ऐसे में मैंने देखा तो अपना स्कार्फ (गमछा) निकालकर उसके गले से खून रोकने के लिए बांध दिया।